C Language – Variable In C In Hindi – [Full Information- हिंदी में]

हेलो फ्रेंड्स आज के इस आर्टिकल में हम वेरिएबल (Variable) के बारे में बात करने वाले है |

आज हम विस्तार से जानेंगे कि वेरिएबल क्या है (What Is Variable in C In Hindi), वेरिएबल कितने प्रकार के होते है ? उसका Basic Syntax क्या है और वेरिएबल नामकरण के कुछ नियम आदि |

आइये सबसे पहले हम ये जान लेते है कि वेरिएबल क्या होता है? (What Is Variable In Hindi)

What Is Variable In C Language In Hindi

वेरिएबल क्या है? (What Is Variable In C In Hindi)

वेरिएबल मेमोरी में उस स्थान का नाम है जिस स्थान पर हम कोई डाटा या इनफार्मेशन स्टोर करके रखते है | एक प्रोग्राम के अंदर बने वेरिएबल को हम उस प्रोग्राम के Execution के दौरान कई बार बदल और अपडेट कर सकते है |

वेरिएबल एक तरह का Identifiers है जिसका उपयोग हम डाटा को स्टोर करके रखने के लिए करते है |

आइये वेरिएबल को हम इस एक उदहारण के द्वारा और अच्छे से समझते है -:

जब भी हमे कोई इनफार्मेशन या डाटा अपने कम्यूटर में या फिर लैपटॉप में स्टोर करना होता है तब उसे हम अपने कंप्यूटर के मेमोरी में स्टोर करके रखते है | मेमोरी में जिस स्थान पर वो डाटा रखते है उसे ऑपरेटिंग सिस्टम एक कॉम्प्लेक्स Address प्रदान करता है जिसे हम जैसे नार्मल यूजर के लिए याद रखना मुश्किल होता है |

ऐसे में ऑपरेटिंग सिस्टम नार्मल यूजर को ये फीचर भी प्रदान करता है की वो यूजर उस डाटा को जिस स्थान में रख रहा है उस स्थान का नाम वो खुद से तय कर  सकता है और चाहे तो वो कोई फोल्डर बना कर उस फोल्डर का नाम रखकर उस फोल्डर के अंदर उस डाटा या इनफार्मेशन को रख सकता है जिससे अगर बाद में, उसे उस डाटा या इनफार्मेशन की जरुरत पड़ी तो वह उसे आसानी से ढूंढ और प्राप्त कर सकते है |

ठीक इसी तरह सी लैंग्वेज में भी जब हम कोई प्रोग्राम बनाते है तो उस प्रोग्राम में अगर हम कोई डाटा स्टोर करना चाहते है तब उस डाटा या  इनफार्मेशन को हम मेमोरी में स्टोर करते है और जिस जगह हमने उस डाटा या  इनफार्मेशन को स्टोर किया है उसे आसानी से बाद में ढूंढा जा सके इसके लिए उस जगह का एक नाम दे देते है |

इस तरह मेमोरी में किसी जगह को डाटा या इनफार्मेशन रखने के लिए जो नाम दिया जाता है इसी को ही वेरिएबल कहा जाता है |

आसान शब्दो में कहूं तो वेरिएबल मेमोरी में उस स्थान का नाम है जिस स्थान पर हम कोई डाटा या इनफार्मेशन स्टोर करके रखते है जिससे आगे अगर उस इनफार्मेशन का काम होने पर आसानी से ढूंढ और प्राप्त कर उसका उपयोग कर सके |  

Syntax to declare a variable

Data_type Variable_name

The example of declaring the variable is given below:

char my_name = “Jeetu Sahu”;

इस Example में char एक Data type है और my_name वेरिएबल का नाम है जिसमे Jeetu Sahu नाम का डाटा Store हो रहा है | हम char  डाटा टाइप के आलावा और भी दूसरे डाटा टाइप का उपयोग करके किसी भी तरह के Data को Store कर सकते है Data type के बारे में और ज्यादा जानने के लिए यहाँ से पढ़ने Datatype क्या है ?

तो दोस्तों यहाँ तो आपको समझ आ गया होगा की वेरिएबल क्या है वेरिएबल का उपयोग क्यों किया जाता है और इसका बेसिक Syntax क्या है अब हम ये जान लेते है कि वेरिएबल डिक्लेअर करने के क्या  नियम है?

वेरिएबल का नाम Declare करने के नियम – Rules for Naming a Variable

  1. वेरिएबल के नाम में अल्फाबेट, नंबर, और अंडरस्कोर का उपयोग ही हो सकता है |
  2. वेरिएबल के नाम का पहला अक्षर या तो कोई लेटर होगा या फिर अंडरस्कोर होगा | 
  3. वेरिएबल का नाम नंबर से शुरू नहीं हो सकता | 
  4. वेरिएबल का नाम मीनिंगफुल होना चाहिए | 
  5. ब्लैंक और खाली स्पेस का उपयोग वेरिएबल के नाम में नहीं किया जा सकता | 
  6. किसी कीवर्ड का उपयोग वेरिएबल के नाम के रूप में नहीं किया जा सकता | 
  7. सी लैंग्वेज में अगर आप किसी वेरिएबल को  लोअरकेस लेटर में और उसी वेरिएबल को अपरकेस लेटर में लिखने पर ये दोनों सी लैंग्वेज की नजर में अलग अलग वेरिएबल है क्योकि सी लैंग्वेज एक केस सेंसेटिव लैंग्वेज है | 

Following are the examples of valid variable names in a ‘C’ program:

Your_Name
_yourname
_Yourname12
small  or SMALL

Example -:

int my_number = 410;

Following are the examples of invalid variable names in a ‘C’ program:

[email protected]
Your Name
1Yourname

Declaring, Defining, and Initializing a variable

Variable Declaration -:

सी लैंग्वेज में जब हम डेटा स्टोर करने के लिए कोई वेरिएबल बनाये है तो सबसे पहले हमे उस variable को डिक्लेअर करना पड़ता है और इसे ही डिक्लेरेशन कहते है | 

वेरिएबल डिक्लेरेशन के द्वारा हम कम्पाइलर को बताते है कि -:

  • वेरिएबल का नाम क्या है?
  • वेरिएबल में किस टाइप का डेटा स्टोर होने वाला है | 
  • वेरिएबल को डेटा स्टोर करने के लिए मेमोरी में कितनी जगह की जरूरत होगी ताकि कम्पाइलर उस वेरिएबल को सही से मेमोरी allocate कर सके | 
  • वेरिएबल डिक्लेयर करके हम कम्पाइलर को बताते है कि हम इस नाम और टाइप का वेरिएबल अपने प्रोग्राम में उपयोग करने वाले है | 

Syntax of Declaring a variable 

data_type variable_name;

Example  -:

int mark;

mark = 78;

इस उदाहरण में int एक डेटा टाइप है जो कम्पाइलर को बताता कि इस वेरिएबल में इन्टिजर टाइप का स्टोर होने वाला है और mark उस वेरिएबल का name है जिसमे हम 78 वैल्यू को स्टोर कर रहे है | 

वेरिएबल को हम extern कीवर्ड का उपयोग करते हुवे भी डिक्लेरेशन कर सकते है वैसे ये ऑप्शनल होता है | 

Example -:

extern int a, b, c;

Variable Definition -:

जब हम अपने प्रोग्राम में वेरिएबल को डिक्लेयर करके कम्पाइलर को बताते है कि इस डेटा टाइप और नाम का वेरिएबल हमारे प्रोग्राम में उपयोग होने वाला है तो इसे ही वेरिएबल डेफिनेशन कहते है | वेरिएबल डिक्लेरेशन और वेरिएबल डेफिनेशन एक दूसरे से सम्बंधित है | 

Example -:

int a;

float b, c;

Initializing a variable -:

जब डिक्लेयर किए गए वेरिएबल में हम कोई वैल्यू असाइन मतलब स्टोर करते है तो इसे initialization कहते है | 

Example -:

int mark;

mark = 100;

इस उदाहरण में mark = 100 करके हमने mark नाम के  वेरिएबल में 100 वैल्यू स्टोर किया है | 

वेरिएबल को हम एक ही लाइन में सिंगल स्टेटमेंट के द्वारा भी initialize कर सकते है | 

Example – int mark = 96;

वेरिएबल के प्रकार (Types of Variables in C)

सी लैंग्वेज में वेरिएबल निम्नलिखित प्रकार के होते है -:

  1. Local variable
  2. Global variable
  3. Static variable
  4. Automatic variable
  5. External variable

1. Local variable in C

ऐसा वेरिएबल जिसे हम किसी फंक्शन या  ब्लॉक के अंदर Declare करते है, local variable कहलाते है |  Local variable का स्कोप केवल उस ब्लॉक या फंक्शन तक ही होता है ऐसे वेरिएबल को हम किसी दूसरे फंक्शन में उपयोग नहीं कर सकते |

ऐसे वेरिएबल का डिक्लेरेशन शुरुआत में ही करना पड़ता है और लोकल वेरिएबल को उपयोग करने से पहले initialize करने की जरुरत पड़ती है |  

लोकल वेरिएबल का स्कोप केवल उस ब्लॉक तक होता है जिस ब्लॉक में वो डिक्लेअर होता है ऐसे वेरिएबल को हम किसी दूसरे ब्लॉक या फंक्शन में उपयोग नहीं कर सकते | 

Example -:

#include <stdio.h>
void fun() 
{
  int x = 10;  // local variable
}
 
int main()
{
  fun();
}

इस उदाहरण में x वेरिएबल का स्कोप केवल fun() फंक्शन तक ही है इसका उपयोग हम fun() फंक्शन के आलावा किसी दूसरे फंक्शन में नहीं कर सकते | 

2. Global variable in C

ग्लोबल वेरिएबल ऐसे वेरिएबल होते है जो फंक्शन या ब्लॉक के बाहर डिक्लेअर होते है | ग्लोबल वेरिएबल को हम किसी दूसरे ब्लॉक या फंक्शन में उपयोग कर सकते | इस वेरिएबल की वैल्यू को कोई भी function में उपयोग और चेंज किया जा सकता है | 

इस वेरिएबल को उपयोग करने से पहले डिक्लेअर करना आवश्यक होता है | 

Example -:

#include <stdio.h>
int x = 10;     //global variable
void fun1()
{
  printf("%d \n" , x);
}
void fun2()
{
  printf("%d \n" , x);
}
int main() 
{
  fun1();
  fun2();
  return 0;
}

Output -:

10
10

ऊपर दिए गए उदाहरण में हमने x वेरिएबल को फंक्शन या ब्लॉक के बाहर डिक्लेअर किया है और इस x वेरिएबल का उपयोग fun1() और fun2() दोनों ही फंक्शन के साथ किया है क्योकि यह एक ग्लोबल वेरिएबल है इसको हम किसी भी फंक्शन के साथ उपयोग कर सकते है |

3. Static variable in C

Static वेरिएबल डिक्लेयर करने के लिए Static कीवर्ड का उपयोग किया जाता है | Static वेरिएबल को यदि हम किसी फंक्शन या ब्लॉक के अंदर डिक्लेयर करते है तो इसे local Static variable कहते है और यदि Static variable का डिक्लेरेशन फंक्शन के बाहर करते है तो इसे global Static variable कहते है | 

Static variable की वैल्यू वैल्यू डिक्लेअर करते टाइम by default जीरो होता है जबकि नार्मल वेरिएबल में by default गार्बेज वैल्यू होता है | 

Example -:

include <stdio.h>
void fun()
{ 
int x = 10;              //local variable 
static int y = 30;    //static variable 
x = x + 10; 
y = y + 10; 
printf("\n %d, %d",x,y); 
} 
int main() 
{
  fun();
  fun();
  fun();
  return 0;
}

Output -:

20 , 40
20,  50
20,  60

Static variable को किसी फंक्शन में उपयोग करने पर उस फंक्शन को जितनी बार कॉल किया जाता है static variable की बढ़ी हुई वैल्यू के साथ ही उपयोग होती है जैसे कि अभी इस प्रोग्राम में हमने static variable का उपयोग हुवा है जो बढे हुए वैल्यू के साथ उपयोग हो रहा है जिसे आप आउटपुट में देख सकते है | 

4. External variable in C

External variable को हम extern कीवर्ड का उपयोग करके डिक्लेअर करते है | External variable का उपयोग हम विभिन्न source files में कर सकते है | 

Example -:

myfile.h

  extern int x=10;   //external variable (also global)  

  program1.c 
  #include "myfile.h"  
  #include <stdio.h>  
  void printValue()
{  
  printf("Global variable: %d", global_variable);  
  }

इस उदाहरण में x एक external वेरिएबल है जिसका उपयोग मल्टीपल फाइल में हो रहा है | 

5. Automatic variable in C

सी लैंग्वेज में हम जितने भी वेरिएबल ब्लॉक के अंदर डिक्लेअर करते है वो सभी Automatic variable होते है | इस वेरिएबल को हमें auto keyword का उपयोग करके डिक्लेअर करना बहुत ज्यादा जरूरी नहीं होता ये एक नार्मल वेरिएबल जैसा ही होता है या कहे कि सभी नार्मल वेरिएबल by डिफ़ॉल्ट Automatic variable होते है |

Example -:

#include <stdio.h>
void function()
{
  int x=10;//local variable (also automatic) 
  auto int y=20;//automatic variable
}
int main() 
{
    function();
    return 0;
}

ऊपर example में x और y दोनों ही ऑटोमेटिक वेरिएबल है मगर इनमे बस इतना अंतर है कि x वेरिएबल को हमने बिना auto कीवर्ड के डिक्लेअर किया है और y को auto कीवर्ड के साथ डिक्लेअर किया है | 

Conclusion -:

दोस्तों आज के इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप सी लैंग्वेज में वेरिएबल क्या है? (What Is Variable In C In Hindi) उसका बेसिक Syntax क्या है और वेरिएबल नामकरण के कुछ नियम आदि के बारे में अच्छे से जान गए होंगे |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको Variable Kya Hota Hai? (What Is Variable In C In Hindi) के बारे में काफी जानकरी हुई होगी |

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि उनको भी Variable Kya Hai? उसका बेसिक Syntax क्या है और वेरिएबल नामकरण के कुछ नियम आदि के बारे में अच्छे से जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आप सी लैंग्वेज का Complete Tutorial चाहते है तो मेरे इस पोस्ट C Language Tutorial In Hindi को देखे यहाँ आपको C Programming Language के सभी टॉपिक्स step by step मिल जाएगी |

ऐसे ही programming , coding, computer science , से रिलेटेड जानकारियों के लिए आप हमारे वेबसाइट MasterProgramming.in को सब्सक्राइब कर ले जिससे की आने वाली नई पोस्ट की जानकारी आप तक जल्दी पहुंचे |

अगर आपको वेरिएबल क्या है? (What Is Variable In C In Hindi) से सम्बंधित या किसी और चीज के बारे में जानना चाहते हो तो जरूर बताये मैं आपके सभी सवालों का जवाब अवश्य दूंगा |

पढ़ते रहिए और बढ़ते रहिए | Keep Reading and Keep Growing

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

Leave a Comment