C Language – Data Types In C In Hindi – [Full Information- हिंदी में]

सी लैंग्वेज सिखने की इस सीरीज में आज हम बात करने वाले है Data Types के बारे में |

आज हम विस्तार से जानेंगे कि Data Types क्या होते है ? (What is Data Types in C in Hindi) और Data Types कितने प्रकार के होते है (Types of Data Types in C in Hindi)

मगर आगे बढ़ने से पहले अगर आपको कम्पाइलर और वेरिएबल के बारे में नहीं पता तो सबसे पहले आप उसके बारे में जान ले क्योकि ये Data Types को अच्छे से समझने में आपकी मदद करेगा |

इसके बारे में आप यहाँ से पढ़े 👉 वेरिएबल क्या है? और कम्पाइलर क्या है?

तो आइये अब हम जानते है कि डाटा टाइप क्या है ? (What is Data Types in C in Hindi)

Data Types क्या है (What is Data Types in C in Hindi)

सी लैंग्वेज में जब भी हम कोई डेटा या इन्फॉर्मेशन स्टोर करने के लिए कोई वेरिएबल बनाते है तब हमे उस वेरिएबल को डिक्लेअर करते समय ये भी डिक्लेअर करना पड़ता है कि वो वेरिएबल किस टाइप का डेटा स्टोर करने वाला है |

ये डेटा टाइप int, char, float, double कुछ भी हो सकते है इन डेटा टाइप को देख कर पता चलता है कि वेरिएबल में किस टाइप की वैल्यू स्टोर होने वाला है |

जैसे की int डेटा टाइप से बने वेरिएबल में हम Integer वैल्यू को स्टोर करते है, char डेटा टाइप से बने वेरिएबल में हम Character टाइप के डेटा को स्टोर करते है तथा Float डेटा टाइप के द्वारा बने वेरिएबल में हम फ्लोटिंग पॉइंट वाले वैल्यू को स्टोर करते है | 

हम वेरिएबल डिक्लेअर करते समय उसका टाइप इसलिए डिक्लेअर करते है क्योकि कम्पाइलर जब हमारे सोर्स कोड को compile करके मशीन कोड में कन्वर्ट करेगा तब कम्पाइलर उस डेटा टाइप के हिसाब से उस वेरिएबल के लिए ram में कुछ मेमोरी allocate करेगा | 

तो वेरिएबल के डेटा टाइप को हम कम्पाइलर को ये बताने के लिए डिक्लेअर करते है कि उस वेरिएबल में किस टाइप की डेटा स्टोर होने वाला है जिससे की कम्पाइलर वेरिएबल के Data Types के हिसाब से उस वेरिएबल के लिए ram में सही से मेमोरी allocate करे | 

वेरिएबल डिक्लेअर करते समय उसका टाइप इसलिए भी डिक्लेअर करते है ताकि कम्पाइलर उस वेरिएबल को रैम उतना ही मेमोरी allocate करे जितना की उसे जरुरत है | अगर हम ऐसा नहीं करेंगे तो मेमोरी नुकसान ज्यादा हो सकता है |

आसान शब्दों कहें तो Data Types बताता है कि, किसी वेरिएबल में हम किस तरह के डेटा को स्टोर करने वाले है |

आइये डेटा टाइप्स को हम एक example से समझते है -: Example of Data Types in C

//Example of Data Types in C
#include<stdio.h>
int main()
{
   int   x  = 14;
   char  ch = 'a';
   float f1 = 25.7;
   printf(" x = %d, ch = %c, f1 = %f ",x,ch,f1);
   return (0);
}

Output – :

x = 14, ch = a, f1 = 25.700001

इस उदारहण में हमने int x करके एक वैरिएबल डिक्लेअर किया है जिसमे int एक डेटा टाइप है और x वेरिएबल का नाम है int डेटा टाइप को देख कर पता चल रहा है की वेरिएबल x में कोई इन्टिजर टाइप की वैल्यू स्टोर होगी इसमें हम कोई करैक्टर या फ्लोटिंग पॉइंट वाली वैल्यू स्टोर नहीं कर सकते |

अगर हमे अपने प्रोग्राम में किसी Character को स्टोर करना है तो उसके लिए हमे char डेटा टाइप का उपयोग करना होगा जैसे की हमने अपने इस प्रोग्राम में char ch करके ch नाम का एक वेरिएबल डिक्लेअर किया और उसमे करैक्टर ‘a’ को स्टोर कराया | 

इसी तरह हमने अपने प्रोग्राम में फ्लोटिंग पॉइंट वैल्यू को स्टोर करने के लिए float डेटा टाइप की मदद से f1 नाम का वेरिएबल डिक्लेअर किया और उसमे 25.7 डेटा को स्टोर किया  | 

एक प्रोग्राम में कई तरह के डेटा को स्टोर करने की जरुरत हो सकती है | हमे जिस तरह के डेटा को स्टोर करना होता है उसके हिसाब से सी लैंग्वेज में हम कई तरह के डेटा टाइप्स का उपयोग कर सकते है | आइये अब हम जानते है कि सी लैंग्वेज में डेटा टाइप कितने प्रकार के होते है |

Data Types के प्रकार ( Types of Data Types In C Language )

सी लैंग्वेज में मुख्यतः तीन तरह के Data Types होते है -:

  1. Pre-defined data types
  2. Derived Data Types
  3. User-defined data type
C Language – Data Types In C In Hindi
Data Types In C In Hindi

1. Pre-defined Data Types

ऐसे डेटा टाइप्स Pre-defined Data Types कहलाते है जो पहले से Defined होते है तथा जिनको अलग से और Defined करने की जरुरत नहीं होती जैसे कि – int , char, float, double, void आदि | 

ये डेटा टाइप्स Basic Data Types में आते है | इन Data Types का मतलब कम्पाइलर को अलग से बताना नहीं पड़ता क्योकि ये पहले से Defined होते है और ऐसे Data Types जो Keywords भी है उन डेटा टाइप्स को Primitive data types कहते है |

List of Predefined Data Types 

Pre-defined Data TypesExamples
Integer Typeint, long int, short int, unsigned int 
Character Typechar
Floating Point Data TypeFloat , double 

Integer Type

  • “int” कीवर्ड का उपयोग इन्टिजर टाइप के वेरिएबल को बनाने के लिए किया जाता है | 
  • Integer Type के वेरिएबल में हम न्यूमेरिक वैल्यू स्टोर करते है | 
  • “int” डेटा टाइप से बना वेरिएबल 2 byte , 4  byte और 8 byte डेटा स्टोर कर सकता है | मगर ये चीज कम्पाइलर पर डिपेंड करता है | 
  • कुछ कम्पाइलर int डेटा टाइप से बने वेरिएबल में 2 byte डेटा स्टोर करता है तो कुछ 4 byte डेटा स्टोर करता है | 
  • int (2 byte), -32,768  से +32,767 तक के वैल्यू को स्टोर कर सकता है | 
  • int (4 byte), -2,147,483,648  से +2,147,483,647.तक के वैल्यू को स्टोर कर सकता है | 
  • अगर आपको इससे ज्यादा वैल्यू का डेटा वेरिएबल में स्टोर करना है तो आप “long int” कीवर्ड का उपयोग करके वैरिएबल बना सकते है | इस कीवर्ड की मदद से बना वेरिएबल नार्मल वेरिएबल से ज्यादा मात्रा में डेटा स्टोर कर सकता है | 
  • int डेटा टाइप से बने वेरिएबल की वैल्यू को प्रिंट करने के लिए %d Format Specifier का उपयोग किया जाता है |   

Note 

  • int data type की मदद से बने वेरिएबल में हम डेसीमल वैल्यू को स्टोर नहीं करते | 
  • यदि हम डेसीमल वैल्यू को int डेटा टाइप से बने वेरिएबल में स्टोर करते है तो उस वैल्यू के डेसीमल पॉइंट कट जाएंगे और केवल whole number ही स्टोर हो पायेगा | 
  • अगर हम डेसीमल वैल्यू को स्टोर करना चाहते है तो हमे float और double data type का उपयोग करना पड़ेगा | 

Syntax -: 

int x = 5;
long int y;

Example

#include <stdio.h>

int main()
{
 int x =5;
 long int y;
 printf("Enter a Number\n");
 scanf("%d",&y);
 printf("value of x = %d , y = %d ",x,y);
 
 return 0;
}

Output -:

Enter a Number
10
value of x = 5 , y = 10

Must Read 👉 Format Specifiers In C

Character Type 

  • Character Type से बने वेरिएबल में हम कैरेक्टर टाइप के डेटा को स्टोर करते है | 
  • “char” कीवर्ड का उपयोग कैरेक्टर टाइप के वेरिएबल को बनाने करने के लिए क्या जाता है | 
  • “char” कीवर्ड से बना वेरिएबल एक सिंगल करैक्टर को स्टोर करता है | 
  • Character Type से बने वैरिएबल की साइज 1 byte होती है | 
  • char डेटा टाइप से बने वेरिएबल की वैल्यू को प्रिंट करने के लिए %c Format Specifier का उपयोग किया जाता है |   

Syntax

char ch = 'A';
char ch2 = 'a';

Example

#include <stdio.h>
int main()
 {
 
 char ch = 'A';
 char ch2;
 printf("Enter a Character \n");
 scanf("%c",&ch2);
 printf("value of ch = %c , ch2 = %c ",ch,ch2);
 
return 0;
}

Output -:

Enter a Character
B
value of ch = A , ch2 = B

Floating Point Data Type

Floating point data type दो प्रकर के होते है -:

  • Float
  • Double

Float

  • यह डेसीमल पॉइंट वाले डेटा को स्टोर करने के लिए उपयोग किया जाता है | 
  • “float” कीवर्ड का उपयोग floating point type के वेरिएबल को बनाने करने के लिए किया जाता है | 
  • Float Type से बने वैरिएबल की साइज 4 byte होती है |
  • Float डेटा टाइप से बने वेरिएबल की वैल्यू को प्रिंट करने के लिए %f Format Specifier का उपयोग किया जाता है |

Example of Float Data Type

#include <stdio.h>
int main() 
{
 float x =5.50;
 float y;
 printf("Enter a decimal Number\n");
 scanf("%f",&y);
 printf("sum of x and y is %f ",x+y);
 
return 0;
}

Output -:

Enter a decimal Number
10.06
Sum of x and y is 15.560000

Double 

  • यह भी फ्लोट डेटा टाइप की तरह डेसीमल पॉइंट वाले डेटा को स्टोर करने के लिए उपयोग किया जाता है | 
  • “double” कीवर्ड का उपयोग double data type के वेरिएबल को बनाने करने के लिए किया जाता है | 
  • double Type से बने वैरिएबल की साइज 8 byte होती है |
  • double डेटा टाइप से बने वेरिएबल की वैल्यू को प्रिंट करने के लिए %lf  Format Specifier का उपयोग किया जाता है |  

Example of Double Data Type

#include <stdio.h>
int main() 
{
 float  x = 679999999.454;
 double y = 679999999.454;
 
 printf("float x = %f and double y = %lf ",x,y);
 
 return 0;
}

Output

float x = 680000000.000000 and double y = 679999999.454000 

दोस्तों ऊपर आपने जो Data Types के बारे में जाना वो सभी बेसिक डेटा टाइप्स या Pre-defined data types कहलाते है | आइये अब हम जानते है Derived Data Types के बारे में |

2. Derived Data Types

Derived Data Types ऐसे Data Types होते है जिनमे वेरिएबल की ग्रुपिंग होती है | Derived Data Types निन्मलिखित है -:

3. User-Defined Data Types

ऐसे Data Types जो पहले से डिफाइंड नहीं होते तथा जिनको अलग से डिफाइंड करना पड़ता है User-Defined Data Types कहलाते है | जैसे कि – Structure, Enumerator, union |

Conclusion

दोस्तों मैंने कोशिश की है की आपको सी लैंग्वेज में डेटा टाइप्स क्या होते है ? (What is Data Types in C in Hindi) और डाटा टाइप कितने प्रकार के होते है (Types of Data Types in C in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी अच्छे से दूँ |

आशा करता हूँ की आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा और आपको कही और सी लैंग्वेज में डेटा टाइप्स क्या होते है ? (What is Data Types in C in Hindi) के बारे में सर्च करना नहीं पड़ेगा |

फिर भी अगर आपको इस पोस्ट से रिलेटेड या प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ,कंप्यूटर साइंस से रिलेटेड कोई भी जानकारी चाहिए तो जरुरु बताये मैं आपको आपके सभी सवालों को बहुत जल्द दूंगा |

दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि उनको भी सी लैंग्वेज में डाटा टाइप्स क्या होते है ? (What is Data Types in C in Hindi) और डेटा टाइप कितने प्रकार के होते है (Types of Data Types in C in Hindi) के बारे में अच्छे से जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आप सी लैंग्वेज का Complete Tutorial चाहते है तो मेरे इस पोस्ट C Language Tutorial In Hindi को देखे यहाँ आपको C Programming Language के सभी टॉपिक्स step by step मिल जाएगी |

एसी ही Programming Language ,Coading , C, C++, से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट masterprogramming.in को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

दोस्तों आज की पोस्ट कैसे लगी जरूर बताएं और अपने दोस्तों को शेयर जरूर करे | जिससे उनको भी इस बारे में अच्छे से पता चल सके |

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

1 thought on “C Language – Data Types In C In Hindi – [Full Information- हिंदी में]”

Leave a Comment