C++ Language क्या है?। History & Features of C++ Language

C++ Language दुनिया की टॉप 10 प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में से एक है | हल में हुवे stackoverflow survey और TIOBE Index के अनुसार सी++ लैंग्वेज दुनिया की सबसे पॉपुलर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है | सी++ लैंग्वेज की पॉपुलैरिटी इसके कुछ कमल के फीचर के कारण है |

आइये विस्तार से जानते है कि सी++ लैंग्वेज क्या है? (What is C++ Language In Hindi ) इसका इतिहास क्या है? ( History of C++ Language in Hindi ) फीचर्स क्या है? (Features of C++ Language in Hindi ) और आपको सी++ लैंग्वेज क्यों सीखना चाहिए?

C++ Language क्या है? (What is C++ Language In Hindi)
C++ Language In Hindi

C++ क्या है? ( What is C++ Language In Hindi )

C++ language एक जनरल पर्पस, ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसको Bjarne Stroustrup ने 1979 में बनाया था | C++ language, सी लैंग्वेज की तरह ही है |

C Language में बनाये गए सभी प्रोग्राम हम बिना कुछ बदलाव या फिर मामूली से बदलाव के साथ C++ language में बड़े ही आसानी से बना सकते है | 

हम कह सकते है कि C++ language, सी लैंग्वेज का Superset है जिसमे सी लैंग्वेज के फीचर्स तो है ही साथ में इसके कुछ और एडिशनल फीचर्स भी है | 

C++ एक efficient और पावर फुल प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसका उपयोग मुख्यतः GUI platforms और 3D graphics में किया जाता है | 

C++ language में सी लैंग्वेज की तुलना में काफी बड़ा function libraries है जो इसे सी लैंग्वेज से काफी ज्यादा सरल और सुविधाजनक बनाता है |

C++ language भी सी लैंग्वेज की तरह एक Middle level प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसमे हम low level और high level दोनों ही तरह के प्रोग्राम्स बड़े ही आसानी से बना सकते है | 

C++ language की इस फीचर के कारण इसकी मदद से एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर तथा सिस्टम सॉफ्टवेयर दोनों ही तरह के सॉफ्टवेयर बनाये जाते है |


सी++ लैंग्वेज का इतिहास ( History of C++ in Hindi )

Bjarne Stroustrup ने C++ language पर 1978 में काम करना शुरू किया और 1979 में इसका पहला वर्शन रिलीज़ किया |  शुरुवात में इनके अनुसार ये कोई नई प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नहीं थी इनका कहना था कि ये सी लैंग्वेज का ही एक Extended वर्जन है | 

जब Bjarne Stroustrup ने C++ language में Classes का concept जोड़ा तब इसे उस समय “C With Classes” कहा गया |

Bjarne Stroustrup ने Classes के साथ साथ कुछ और नए कांसेप्ट add किया जिसके चलते 1983 में Bjarne Stroustrup द्वारा बनाये गए लैंग्वेज का नाम C++ पड़ा | 

C++  में ये जो इंक्रीमेंट ऑपरेटर “++” है वो इंडिकेट करता है कि C++ language, सी लैंग्वेज का Extended वर्जन है | 

C++ language को 1998 में ISO committee द्वारा standardized किया गया और सन 2003 में इसका छोटा सा अपडेट रिलीज़ किया गया जिसके चलते इसे C++03 कहा गया | 

2011, 2014, और 2017 में C++ language के नए स्टैण्डर्ड रिलीज़ किया गया जिसके चलते C++ language को C++11, C++14, और  C++17 कहा गया | 

C++ language का हर नया standard एक नए फीचर्स के साथ आता है जो प्रोग्रामर को प्रोग्रामिंग में काफी मदद करता है | 


सी ++ लैंग्वेज की विशेषताएं ( Features of C++ Language In Hindi )

सी++ लैंग्वेज की निम्नलिखित विशेषताएं है -:

  1. Statically typed 
  2. Compiler Based
  3. General Purpose Language
  4. Case Sensitive
  5. Object-oriented Programming

1. Statically typed 

C++ language एक Statically typed प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसमे वेरिएबल के डेटा टाइप को रन टाइम में न चेक करके कंपाइल टाइम में चेक किया जाता  है 

2. Compiler Based

C++ language एक Compiler Based प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसमे प्रोग्राम्स को बिना Compile किये Execute या run नहीं किया जा सकता |

C++ language में बने प्रोग्राम को सबसे पहले Compiler की मदद से मशीन लैंग्वेज में बदला जाता है  फिर उस प्रोग्राम को हम Execute कर सकते है | 

3. General Purpose Language

C++ language एक General Purpose प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसमे हम एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर से लेकर सिस्टम सॉफ्टवेयर तक लगभग सभी तरह के सॉफ्टवेयर बना सकते है | 

4. Case Sensitive

C++  एक Case Sensitive प्रोग्रामिंग लैंग्वेज हैं जिसमे Lower Case letter और Upper Case letter में लिखे गए शब्द का मतलब अलग अलग होता है | 

5. Object-oriented Programming

C++  एक Object-oriented प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसमे चीजों को एक ऑब्जेक्ट मानकर प्रोग्राम बनाया जाता है |


सी ++ लैंग्वेज क्यों सीखें? (Why to Learn C++ in Hindi)

अगर आप एक अच्छे सॉफ्टवेयर engineer बनना चाहते है तो आपको C++ लैंग्वेज जरूर सीखना चाहिए | 

C++ लैंग्वेज के और भी कई सारे फायदे है जिसके बारे में मैंने नीचे बताया है | 

  • C++ लैंग्वेज हार्डवेयर के काफी नजदीक होता है इसकी मदद से हम Low Level प्रोग्रामिंग कर सकते है | C++ लैंग्वेज की मदद से बने प्रोग्राम द्वारा हम मेमोरी मैनेजमेंट बड़े ही आसानी से कर सकते है | 
  • C++ language की मदद से आप ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड कांसेप्ट को बड़े ही आसानी से सिख सकते है | ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड कांसेप्ट आपके आगे की प्रोग्रामिंग यात्रा को आसान बना देता है | 
  • अगर आप C++ language सिख जाते है तो ये आपके कैंपस requirement प्रोसेस में काफी मददगार साबित हो सकता है | अगर आप एक अच्छे C++ सॉफ्टवेयर डेवलपर बन जाते है तो कंपनियां आपको ज्यादा pay करती है | 
  • C++ के द्वारा आप सिस्टम सॉफ्टवेयर और एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर दोनों ही तरह के सॉफ्टवेयर बनाने में सक्षम हो जाते है | 

C++ लैंग्वेज सीखने के ऐसे हजारो फायदे है मगर आप आपको यदि एक अच्छा सॉफ्टवेयर engineer बनना है और आईटी फील्ड में अपना करियर बनाया है तो आपको इसे जरूर सीखना चाहिए | 


Hello World using C++ Language

आपको मै C++ लैंग्वेज की मदद से Hello world का एक पारम्परिक प्रोग्राम बना के दिखा रहा हु जिससे की आपको थोड़ा आईडिया हो सके कि C++ लैंग्वेज में कोड कैसे लिखा जाता है |

#include <iostream>
using namespace std;

// main() एक ऐसा फंक्शन है जहा से program का निष्पादन शुरू होता है | 
int main() 
{
   cout << "Hello World"; // prints Hello World
   cout << "Welcome to MasterProgramming.in";
   return 0;
}

Output 

Hello World
Welcome to MasterProgramming.in

अभी आप ज्यादा न सोचे कि इसमें लिखे कोड का क्या मतलब है आगे जब आप C++ लैंग्वेज सीखना शुरू करेंगे तो आपको सभी चीजें धीरे धीरे क्लियर हो जायेगा | 


सी++ लैंग्वेज कैसे सीखें ( How to learn C++ Language In Hindi )

C++ लैंग्वेज सीखने के लिए आप वेबसाइट या फिर यूट्यूब वीडियो देख सकते है | 

यदि आप C++ लैंग्वेज हिंदी में सीखना चाहते है तो निचे कमेंट में बताएं | मैं आपको  C++ लैंग्वेज का Complete Tutorial प्रदान करने की कोशिश करूँगा | 

अभी के लिए निचे मैं कुछ वेबसाइट बता रहा हूँ जहा से आप C++ लैंग्वेज सीखना शुरू कर सकते है | 

वैसे इन वेबसाइट में आपको इंग्लिश में C++ लैंग्वेज सिखाया जायेगा यदि आप हिंदी में C++ लैंग्वेज सीखना कहते है तो निचे कमेंट करें | 


इन्हे भी पढ़े -:

Conclusion 

दोस्तों आशा करता हु कि आपको C++ क्या है?( What is C++ language in Hindi ) और C++ language Kaise Sikhe से संबंधित सभी जानकारी आपको हमारी इस पोस्ट में मिल गई होगी और आपको कही और इसके बारे में सर्च करना नहीं पड़ेगा |

मैंने कोशिश की है कि आपको C++ Programming Language से संबंधित सभी जानकारी इस एक पोस्ट में दू |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आयी होगी अगर आपको ये पोस्ट पसंद आयी है तो आप इस पोस्ट को अपने अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी ये जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आपको अभी भी C++ Kya Hai? (What is C++ In Hindi) और सी++ लैंग्वेज कैसे सीखें ( How to learn C++ Language In Hindi ) से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप निचे कमेंट में जरूर बताये मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

ऐसे ही टेक्नोलॉजी ,Programming Language, Coding, C Language, C++, Python Course, Java Tutorial से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट  masterprogramming.in को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की  सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Thank you आपका दिन मंगलमय हो |

पढ़ते रहिए और बढ़ते रहिए | Keep Reading and Keep Growing

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

3 thoughts on “C++ Language क्या है?। History & Features of C++ Language”

Leave a Comment