History of Computer in Hindi [Full Information हिंदी में]

कंप्यूटर के विकास का यह सफर काफी मुस्किलो भरा रहा हैं आज मैं आपको कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer in Hindi) बताने जा रहा हु कि आज हम जो कंप्यूटर उपयोग करते है उसका विकास कैसे हुवा ? 

आप कंप्यूटर के विकास (Evolution of computer in Hindi) के बारे में जनाने के लिए इस वीडियो को भी देख सकते है | अगर ये नहीं देखना तो आगे पढ़ते रहिये, आपको आगे पूरी जानकारी हो जाएगी |

कंप्यूटर का आविष्कार मनोरंजन करने, ईमेल भेजने या गेम खेलने के लिए नहीं हुवा था बल्कि इसका आविष्कार बड़ी मात्रा में मैथेमेटिक कैलकुलेशन करने के लिए किया गया था |

आज हम जो कंप्यूटर उपयोग कर रहे है उसमे हम लगभग सभी काम कर पाते है चाहे वो, जटिल से जटिल कैलकुलेशन हो या फिर इंटरनेट में कुछ सर्च करना | 

पहले के कंप्यूटर काफी बड़े हुवा करते थे उनका आकर एक बहुत बड़े कमरे जितना हुवा करता था फिर भी वो ज्यादा काम नहीं कर पाते थे | वो कुछ बेसिक कैलकुलेशन ही कर पाते थे | आज के कंप्यूटर, आकर में छोटे और काफी पावरफुल होते हैं |

आइये कंप्यूटर के इतिहास (History of Computer in Hindi) को हम शुरुवात से जानते है |

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer in Hindi)

प्राचीन समय में जब लोगो के पास कोई सुविधा नहीं था और लोग शिकार करके अपना जीवन यापन किया करते थे उस समय यदि उनको कुछ गणना करना होता था तो वो उस समय लाठी, पत्थर और हड्डियाँ का उपयोग किया जाता था | 

जैसे जैसे समय बीतता गया उनके मस्तिष्क का भी विकास होने लगा और उन्होंने गणना करने के लिए कई सारे मशीन भी डेवलप्ड किया |

आइये जानते है उन मशीनों बारे में -:

  • Abacus (अबेकस) 2400 BC
  • Napier’s Bones (नेपियर बोन्स -1614)
  • Slide Rule (स्लाइड रूल 1622)
  • Pascaline (पास्कलाइन 1642)
  • Stepped Reckoner (स्टेप्पड़ रेकनर 1672)
  • Jacquard loom (जैकर्ड लूम 1801)
  • Arithmometer (अरिथमोमीटर 1820)
  • Difference Engine (डिफरेन्स इंजन1822)
  • Analytical Engine (एनालिटिकल इंजन 1834)
  • Scheutizian Calculation Engine (1843)
  • Tabulating machine (1890)
  • Harvard mark 1 (1937-1944)
  • Z1 (1936-1938)
  • Atanasoff-Berry Computer (ABC 1939 -1942)
  • ENIAC (1946)
  • EDVAC (1949)
  • UNIVAC 1 (1951 )
  • Osborne 1 (1981)

आइए अब हम इन सभी के बारे में विस्तार से जानते है कि ये मशीन क्या थे, कैसे काम करते थे और इनका क्या उपयोग था |

1. Abacus Kya Hai?

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer in Hindi) अबेकस के आविष्कार के साथ शुरू हुवा | इसे पहला कंप्यूटर माना जाता हैं Abacus शब्द  ग्रीक के शब्द “abax” से लिया गया हैं जिसका अर्थ हैं  “Calculating Board” | 

Abacus का अविष्कार 2400 BC में Babylonia में हुवा था मगर इसका उपयोग पहली बार 500 BC में चीन में हुवा | ऐसा माना जाता है कि का अविष्कार Tim Cranmer ने किया था | अबेकस (Abacus) का सबसे ज्यादा उपयोग चीन, जापान और रूस में किया जाता हैं |

कार्य – : Abacus एक मेकेनिकल डिवाइस है जिसका उपयोग मैथेमेटिकल कैलकुलेशन में किया जाता था | अबेकस बेसिक अरिथमेटिक ऑपरेशन कर सकता हैं यह दुनिआ का पहला कैलकुलेशन डिवाइस था | 

2. Napier’s Bones Kya Hai?

जॉन नेपियर एक स्कॉटिस मैथेमैटिशन थे जिन्होंने नंबर से संबंधित कई खोजे की और इन्होने ही  1614 में Napier’s Bones मशीन भी बनायीं थी | 

इस मशीन में उन्होंने 9 अलग-अलग हाथी दाँत की पट्टी या नंबर को चिह्नित करने और विभाजित करने के लिए हड्डियों का उपयोग किया था इसलिए इस मशीन का नाम नेपियर बोन्स पड़ा | 

कार्य – : नेपियर बोन्स एक तेजी से कैलकुलेशन करने वाला मशीन था इस मशीन के द्वारा गुणा , भाग, वर्ग, घन मूल निकाला जाता था |

3. Slide Rule Kya Hai?

William oughtred ने 1622 में स्लाइड रूल (Slide Rule) को बनाया था स्लाइड रूल नेपियर के लोगरिथ्म्स पर आधारित थी | 

कार्य – : Slide Rule का उपयोग गुणन, विभाजन, रूट ,लॉगरिथम, त्रिकोणमिति में किया जाता था | मगर इसमें जोड़ ,घटाव नहीं किया जा सकता था | 

4. Pascaline Kya Hai?

फ्रेंच गणितज्ञ ब्लाइस पास्कल (Blaise Pascal) ने 1642 में “पास्कलाइन” बनाया था | पास्कल ने ये मशीन अपने पिता और एक कर लेखाकार की सहायता के लिए बनाया था |

ब्लाइस पास्कल ने “Pascaline” मशीन सिर्फ 19 वर्ष के आयु में बनाया था | यह लकड़ी का एक बॉक्स था जिस पर गियर और पहिए की एक श्रेणी थी जब एक पहिये को घुमाया जाता था तो वो पहिया अपने से लगे दूसरे पहिये को घूमता था |

कार्य – : Pascaline में सिर्फ जोड़, घटाव बस किया जा सकता था इस कारण से इस मशीन को एडिंग मशीन (Adding Machine) भी कहा गया | पास्कलाइन काफी महंगा मशीन था |

5. Stepped Reckoner Kya Hai?

गॉटफ्रेड विल्हेम लिबनिट्ज (Gottfried Wilhelm Leibniz) ने 1672 में ब्लाइस पास्कल के द्वारा  बनाये गए मशीन को थोड़ा और इम्प्रूव करके Stepped Reckoner को बनाया था |

कार्य – : गॉटफ्रेड विल्हेम लिबनिट्ज द्वारा बनाये गए इस मशीन से जोड़ और घटाव के साथ साथ गुना और भाग भी किया जा सकता था | 

6. Jacquard loom Kya Hai?

जैकर्ड लूम एक मैकेनिकल लूम (Mechinical Loom) था जिसको Joseph Marie Jacquard ने 1801 में बनाया था |

कार्य – : इस मशीन में इनपुट डिवाइस के रूप में पंच कार्ड का उपयोग होता था | 

7. Arithmometer Kya Hai?

ये एक मैकेनिकल कैलकुलेटर था जिसको Thomas De Colmar ने 1820 में बनाया था ये पहला उपयोगी, विश्वसनीय और व्यावसायिक रूप से सफल कैलक्युलेटिंग मशीन थी |

Arithmometer पहली ऐसी मशीन थी जिसको बड़ी मात्रा में बनाया गया था जबकि इससे पहले के मशीन को डेमो/टेस्ट के लिए सिर्फ एक या दो ही बनाया जाता था | 

8. Difference Engine Kya Hai?

ब्रिटिश गणितज्ञ चार्ल्स बैबेज (“Father of Modern Computer“) ने 1822 में सबसे पहले डेफरेन्स इंजन को बनाया था | ये एक मैकेनिकल कंप्यूटर था जो भांप से चलता था | 

चार्ल्स बैबेज को रोजाना मैथेमेटिकल और स्टेटिस्टिक कैलकुलेशन करना पड़ता था जिसको एक व्यक्ति द्वारा किये जाने पर गलती की गुन्जाईस होती थी |

इसी को ऑटोमेटेड करने के लिए चार्ल्स बैबेज ने Difference Engine को बनाया था जिससे की कैलकुलेशन में कोई गलती न हो | मगर Charles Babbage का डेफरेन्स इंजन पैसे की कमी के चलते पूरा न हो सका |

9. Analytical Engine Kya Hai?

चार्ल्स बैबेज ने ही 1834 में एनालिटिकल इंजन बनाया | जो पंच कार्ड के द्वारा निर्देशों को लेता था | इसके द्वारा जोड़, घटाव ,गुणा भाग किया जा सकता था | 

एनालिटिकल इंजन दुनिया का पहला जनरल पर्पस कंप्यूटर था | एनालिटिकल इंजन में जो प्रोग्राम्स लिखा गया था उसको लेडी ऑगस्टा एडा बायरन ने लिखा था इसलिए लेडी ऑगस्टा एडा बायरन पहली कंप्यूटर प्रोग्रामर के रूप में जाना जाता हैं |

10. Scheutizian Calculation Engine Kya Hai?

Scheutizian Calculation Engine को Pearl George Scheutiz ने 1843 में बनाया था ये चार्ल्स बैबेज के डेफरेन्स इंजन पर आधारित था |

कार्य – : Scheutizian Calculation Engine पहला प्रिंटिग कैलकुलेटर था | 

11. Tabulating machine Kya Hai?

अमेरिकी वैज्ञानिक हरमन होलेरिथ ने 1890 में Tabulating Machine को बनाया था जो की बिजली से चला करती थी |

कार्य – : Tabulating Machine एक इलेक्ट्रो-मैकेनिकल मशीन था | जिसका उपयोग अमेरिका की जनगणना में भी किया गया | होलेरिथ ने ही पंच कार्ड को भी बनाया था जिसको इनपुट डिवाइस के रूप में उपयोग किया जाता था |

होलेरिथ ने हॉलेरिथ की टेबिलिंग मशीन कंपनी भी शुरू की जो कि 1924 में International Business Machine (IBM) बन गई |

11. Harvard mark 1 Kya Hai?

Harvard mark 1 को ही IBM का ASCC (Automatic Sequence Controlled Calculator ) के नाम भी जाना जाता हैं | Harvard mark 1 को Dr.Howard Aiken ने 1937-1944 के बिच में बनाया था | 

Harvard mark 1 पहला  इलेक्ट्रो-मैकेनिकल कैलकुलेटर था ये पंच कार्ड पर आधारित था Harvard mark 1 50 फिट लम्बा और 8 फिट ऊंचा था | 

12. Z1 Kya Hai?

ये पहला ऐसा मशीन था जो प्रोग्रामेबल था मतलब इसमें पहले से प्रोग्राम्स डाला जा सकता था इस मशीन को कोनराड ज़ूस ने जर्मनी में 1936-1938 के बिच बनाया था | Z 1 में सभी इनपुट पंच टेप के द्वारा दिया जाता था और जो आउटपुट होता था वो भी पंच टेप के माध्यम से ही आता था |

13. Atanasoff-Berry Computer Kya Hai?

यह पहला इलेक्ट्रॉनिक डिजिटल कंप्यूटिंग डिवाइस था इस कंप्यूटर को प्रोफेसर जॉन अटनासॉफ और उसके स्टूडेंट क्लिफ्फोर्फ़ बेर्री ने 1939 -1942 के बिच में बनाया था |

14. ENIAC Kya Hai?

ENIAC  का फुल फॉर्म Electronic Numerical Integrator and Computer होता है ये पहला इलेक्ट्रॉनिक जनरल पर्पस कंप्यूटर था |

ENIAC 1946 में पूरा बन के तैयार हुवा इस कंप्यूटर को जॉन मौचली और जे. प्रेस्पर एकर्ट ने Moore school of engineering U.S.A. में मिलकर बनाया था | ENIAC में 18000 वैक्यूम ट्यूब का उपयोग हुवा था |इसका आकर 20*40  वर्ग फीट था | 

15. EDVAC Kya Hai?

EDVAC का अर्थ है Electronic Discrete Variable Automatic Computer | इसको वॉन न्यूमेन ने डिज़ाइन किया था |

ये पहला कंप्यूटर था जिसमे प्रोग्राम्स के साथ उसका डेटा भी स्टोर होता था इसी में बाइनरी लैंग्वेज का कांसेप्ट पहली बार उपयोग में आया था | आधुनिक कंप्यूटर के विकास में वॉन न्यूमेन ने सर्वाधिक योगदान दिया |

16. UNIVAC 1 Kya Hai?

UNIVAC 1 (Universal Automatic Computer) पहला कमर्सिअल कंप्यूटर था जो बाजार में बिका था | UNIVAC को J. Presper Eckert और John Mauchly ने 1951 में  बनाया था |

17. Osborne 1 Kya Hai?

Osborne पहला पोर्टेबल कंप्यूटर था जिसको ऑसबोर्न कंप्यूटर कॉरपोरेशन ने 1981 रिलीज़ किया था |

History of Computer In Hindi (Tabular Form)

क्र.ComputerYearDeveloped By
1Abacus 2400 BCTim Cranmer 
2Napier’s Bones 1614John Napier
3Slide Rule1622William oughtred
4Pascaline1642Blaise Pascal
5Stepped Reckoner 1672Gottfried Wilhelm Leibniz
6Jacquard loom1801Joseph Marie Jacquard
7Arithmometer1820Thomas De Colmar
8Difference Engine 1822Charles Babbage
9Analytical Engine1834Charles Babbage
10Scheutizian Calculation Engine1843Pearl George Scheutiz
11Tabulating machine1890Herman Hollerith
12Harvard mark 11937-1944Dr.Howard Aiken
13Z1 1936-1938Konrad Zuse
14Atanasoff-Berry Computer1939 -1942John Vincent Atanasoff And Clifford Berry
15ENIAC 1946John Mauchly And J. Presper Eckert
16EDVAC 1949Von Neumann
17UNIVAC 1 1951J. Presper Eckert And John Mauchly
18Osborne 11981Osborne Computer Corporation
History of Computer In Hindi

इन्हे भी पढ़े – :

Conclusion

दोस्तों आशा करता हु कि आज के इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप कंप्यूटर के इतिहास (History of Computer in Hindi) के बारे में अच्छे से जान गए होंगे |

अगर आपको कंप्यूटर के इतिहास (History of Computer in Hindi) से सम्बंधित या किसी और चीज के बारे में जानना चाहते हो तो जरूर बताये मैं आपके सभी सवालों का जवाब अवश्य दूंगा |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको कंप्यूटर के इतिहास (History of Computer in Hindi) के बारे में काफी जानकरी हुई होगी |

दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट “कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer in Hindi)” पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे ताकि उनको भी कंप्यूटर के इतिहास (History of Computer in Hindi) के बारे में अच्छे से जानकारी प्राप्त हो सके |

ऐसे ही जानकारियों के लिए आप हमारे वेबसाइट MasterProgramming.in को सब्सक्राइब कर ले जिससे की आने वाली नई पोस्ट की जानकारी आप तक जल्दी पहुंचे |

पढ़ते रहिए और बढ़ते रहिए | Keep Reading and Keep Growing

Hey there, welcome to Master Programming. I am Jeetu Sahu , A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

2 thoughts on “History of Computer in Hindi [Full Information हिंदी में]”

Leave a Comment