कंप्यूटर के प्रकार | Types of Computer In Hindi

Computer Ke Prakar | Types of Computer In Hindi

हम कंप्यूटर को तीन तरीकों से categorize कर सकते हैं -:

  1. Based on Data Handling Capacity
  2. Based on Size
  3. Based on Purpose

Data Handling क्षमताओं के आधार पर (Based on Data Handling Capacity)

Data Handling Capacity के आधार पर कंप्यूटर तीन type के होते हैं -:

  1. Analogue Computer
  2. Digital Computer
  3. Hybrid Computer

1) Analogue Computer

एनालॉग कंप्यूटर, Analog data को प्रोसेस करता है। Analog data कंटीन्यूअस डाटा होता है जो लगातार बदलता रहता है और इसमें discrete values नहीं होती। हम कह सकते हैं कि Analogue Computer का उपयोग हम तब करते है जब हमें exact values की आवश्यकता नहीं होती है जैसे कि temperature, speed, pressure और current आदि में ।

एनालॉग कंप्यूटर Data को मापने वाले उपकरण से बिना numbers और codes में परिवर्तित किए सीधे Accept करता हैं। Analogue Computerभौतिक मात्रा में निरंतर परिवर्तनों को मापते हैं Speedometer और mercury thermometer एनालॉग कंप्यूटर के उदाहरण हैं।

Thermometer Example of Analog Computer
Thermometer Example of Analog Computer

Analogue computers के उपयोग और लाभ -:

  1. Analogue Computer एक ही समय में real-time operations और computation allow  करता है |
  2. कुछ Applications में, Transducers के उपयोग के बिना, inputs or outputs को digital electronic फॉर्म में बदलने के लिए या digital electronic फॉर्म को inputs-outputs में बदलने के लिए कैलकुलेशन परफॉर्म करने में मदद करता है |
  3. प्रोग्रामर, Analogue Computer के dynamic range के लिए समस्या को कम या ज्यादा कर सकता है।

2) Digital Computer

डिजिटल कंप्यूटर calculations और logical operations को तेजी से करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह raw data को digits या binary numbers (0 और 1) को इनपुट के रूप में स्वीकार करता है और आउटपुट को उत्पादित करने के लिए इसकी मेमोरी में संग्रहीत programs के साथ इसे processes करता है। सभी modern कंप्यूटर जैसे Laptop, desktop, smartphone जिसे हम घर और office में उपयोग करते है ये सभी डिजिटल कंप्यूटर ही है ।

Digital Computer
Digital Computer

Digital Computer के उपयोग और लाभ:

  1. यह आपको बड़ी मात्रा में जानकारी store करने और इसे आसानी से निकालने करने की अनुमति प्रदान करता है |
  2. आप digital systems में नई सुविधाओं को आसानी से जोड़ सकते हैं।
  3. Hardware में कोई बदलाव किए बिना program को बदलकर डिजिटल सिस्टम में विभिन्न applications का उपयोग किया जा सकता है |
  4. IC टेक्नोलॉजी में प्रगति के कारण हार्डवेयर की लागत कम हुई है ।
  5. यह high speed प्रदान करता है क्योंकि डेटा को डिजिटल रूप में process किया जाता है।
  6. यह highly reliable है क्योंकि यह error correction codes का उपयोग करता है।

3) Hybrid Computer

Hybrid Computers में Analogue Computer और Digital Computer दोनों के Features होते हैं। Hybrid Computers, एनालॉग कंप्यूटर की तरह fast और डिजिटल कंप्यूटर की तरह इसमें memory और accuracy होती है। 

यह कॉन्टिनुएस और डिस्क्रीट दोनों डेटा को प्रोसेस कर सकता है। 

यह Analogue Signals को स्वीकार करता है और प्रोसेसिंग से पहले उन्हें डिजिटल रूप में परिवर्तित करता है। Hybrid Computers का उपयोग व्यापक रूप से ऐसे एप्लीकेशन में किया जाता है जहां एनालॉग और डिजिटल दोनों तरह के डेटा का प्रोसेस होता हैं।

उदाहरण के लिए, एक processor का उपयोग पेट्रोल पंपों में किया जाता है जो ईंधन प्रवाह की measurement को quantity और price में परिवर्तित करता है। इसी तरह, Hybrid Computers का उपयोग हवाई जहाज, अस्पताल और scientific applications में भी किया जाता है।

Hybrid Computers के उपयोग और लाभ:

  1. यह accurate और quick results उत्पन्न करता है जो अधिक सटीक और उपयोगी होते हैं।
  2. यह वास्तविक समय में बड़े समीकरण को हल करने और manage करने की क्षमता रखता है।
  3. यह on-line डेटा प्रोसेसिंग में मदद करता है।

Must Read -: 👉 Computer Kya Hai? Definition & Features of Computer In Hindi

आकार के आधार पर (Based on Size)

Size के आधार पर, कंप्यूटर 4 type के होते हैं:

  1. Super-computer
  2. Main-Frame computer
  3. Mini-computer 
  4. Micro-computer 

1) Super Computer

सुपर कंप्यूटर साइज में काफी बड़ा, फ़ास्ट और काफी महंगा होता है | super computer बहुत ही powerful computers होते है,जो कि Trillions of instructions को कुछ सेकेंड में ही perform कर सकते है। 

Super Computer बड़ी मात्रा में डाटा को Store कर सकते है। Super Computer, difficult और जटिल समस्याओ का समाधान nano second में कर लेते है इसलिए इसे super computer कहा जाता है। C-DAC, PARAM, ANURAG भारत के सुपर कंप्यूटर है |

 SuperComputer
SuperComputer

Super Computer के उपयोग और लाभ:

  1. Super Computer का उपयोग मौसम की फोरकास्टिंग और वैश्विक जलवायू की जानकारी निकलने के लिए किया जाता है।
  2. ये मिलेट्री रीसर्च और डिफेंस सिस्टम में यूस होता है।
  3. आटोमोबाईल, एयरक्राफ़्ट, स्पेस क्राफ्ट डिज़ाइनिंग के लिए यूस होता है।
  4. जेनिटिक इंजीनियरींग की पढ़ाई में ।
  5. डिजिटल फिल्म बनाने में सुपर कंप्यूटर का काफी उपयोग होता है।

2) Main Frame computer

मेनफ्रेम कंप्यूटर (Mainframe computer) बड़े कंप्यूटर होते है जो की 1000 वर्ग फिट की जगह लेता है | मेनफ्रेम कंप्यूटर जनरल पर्पस कंप्यूटर होते है जो बड़ी मात्रा में डाटा को प्रोसेस करने के लिए डिज़ाइन किया गया होता है |

Mainframe computer अलग अलग टर्मिनल्स से बड़ी मात्रा में डाटा लेते है और उसे एक ही टाइम में प्रोसेस भी कर सकते है | 100 से ज्यादा यूजर एक साथ मेनफ्रेम कंप्यूटर का उपयोग कर सकते है | मेनफ्रेम कंप्यूटर बड़े ऑर्गैनिज़शन में जब बहुत सरे लोगो को एक साथ हैंडल करना हो तब इसको काम में लाया जाता है |

मेनफ्रेम कंप्यूटर के उदाहरण – IBM S/390 ,IBM S/709, ICL 39 |

मेनफ्रेम कंप्यूटर
मेनफ्रेम कंप्यूटर

Mainframe Computer के उपयोग और लाभ:

  1. बैंक में इसका इस्तेमाल होता है |
  2. मार्केटिंग में भी इसका यूज होता है |
  3. एयर-ट्रैफिक कंट्रोल में भी Main-Frame computers का उपयोग होता है |
  4. बड़े ऑर्गनिज़शन में डाटा प्रोसेसिंग के लिए भी Main-Frame computers का use होता है 

3) Mini Computer

Mini-computer मिडिल साइज का कंप्यूटर है | Mini-computer अपनी साइज के कारण बहुत लोकप्रिय है | ये भी मल्टीयूज़र कंप्यूटर है जो एक साथ 12 से भी ज्यादा लोगो को काम करने की सुविधा प्रदान करता है | ये माइक्रो -कंप्यूटर से महँगे होते है | 

Mini-computer के उदाहरण – Multimedia, Graphic, 3D Graphic gaming computer आदि |

 Mini computer के उपयोग और लाभ:

  1. ये यूनिवर्सिटी और माध्यम वर्ग के बिज़नेस में कॉम्प्लेक्स डाटा प्रोसेस करने के लिए यूज होता है |  
  2. ये साइंटिफिक रिसर्च और इंजीनियरिंग एनालिटिक्स में भी Mini-computer का उपयोग किया जाता है | 
  3. उद्योग जगत में डाटा मॉनिटरिंग और डाटा कण्ट्रोल करने के लिए | 

4) Micro-computer 

आज के दिन ज्यादा से ज्यादा कंप्यूटर, जो हम जनरल परपोस के लिए यूज करते है वो सब Micro-computer होते है | ये बहुत ही लोकप्रिय कंप्यूटर है जिसे घर में बड़ी ही आसानी से हायर लेवल के एप्लीकेशन को यूज करने के लिए उपयोग करते है | 

Micro-computer के उदाहरण – IBM PCs, Apple Mac,IBM PS/2 आदि |

उद्देश्य के आधार पर (Based on Purpose)

Purpose के आधार पर, कंप्यूटर 2 type के होते हैं:

  1. General purpose computer
  2. Special Purpose Computer 

1) General Purpose Computer

General purpose computer विभिन्न program को store कर सकता है और उसका उपयोग अनगिनत एप्लीकेशन में किया जा सकता है। एक जनरल पर्पस कंप्यूटर Main मेमोरी में स्टोर किए गए एप्लिकेशन प्रोग्राम को बदलकर समान कुशलता के साथ किसी भी प्रकार का कार्य कर सकता है।

 General Purpose Computer
General Purpose Computer

2) Special Purpose Computer 

एक Special Purpose Computer, वह है जिसे केवल एक विशेष कार्य करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। program या instruction set स्थायी रूप से ऐसी मशीन में संग्रहीत किया जाता है। तापमान का परीक्षण करने के लिए थर्मामीटर ,बिजली का प्रबंधन करने के लिए जेनरेटर Special Purpose Computer के उदाहरण है | इन कंप्यूटरों का उपयोग अक्सर Special Purpose लिए किया जाता है |इसका उपयोग किसी अन्य उद्देश्य के लिए नहीं किया जा सकता है।

Conclusion

दोस्तों आशा करता हु कि आज के इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको कंप्यूटर कितने प्रकर के होते है (How Many Types of Computer In Hindi ) से संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको कंप्यूटर कितने प्रकर के होते है (How Many Types of Computer In Hindi ) के बारे में काफी जानकरी हुई होगी |

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो इस पोस्ट को अपने अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी ये जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आपको अभी भी Types of Computer In Hindi से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप जरूर बताये मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

Leave a Comment