टेलनेट क्या है? – What is Telnet In Hindi

Telnet Kya Hai? -: TELNET का मतलब TErminaL NETwork है। यह एक प्रकार का प्रोटोकॉल है जो एक कंप्यूटर को दूसरे कंप्यूटर से कनेक्ट करने में सक्षम बनाता है। 

कंप्यूटर जो कनेक्शन शुरू करता है उसे Local कंप्यूटर के रूप में जाना जाता है और कंप्यूटर जिसे Local कंप्यूटर के साथ कनेक्ट किया जा रहा है यानी जो कनेक्शन को स्वीकार करता है उसे रिमोट कंप्यूटर के रूप में जाना जाता है। 

जब Local और रिमोट कंप्यूटर आपस में कनेक्टेड होते है तो यूजर द्दारा जो कुछ भी रिमोट कंप्यूटर पर किया जा रहा होता है वह Local कंप्यूटर द्वारा प्रदर्शित किया जाता है । 

टेलनेट का उपयोग मुख्यतः प्रोग्राम डेवलपर्स या किसी भी ऐसे व्यक्ति द्वारा किया जाता है, जिसे किसी रिमोट मशीन पर स्थित डेटा का उपयोग करने की आवश्यकता होती है।

तो दोस्तों यह थी Telnet  की एक बेसिक सी जानकारी, यदि आप इसके बारे में Detail में जानना चाहते है तो आप इस आर्टिकल को आगे पढ़ते रहे क्योकि आज के इस आर्टिकल में हम विस्तार से जानेंगे कि Telnet Kya Hai?  इसके क्या क्या कार्य होते हैं और टेलनेट के क्या फायदे व क्या नुकसान है। 

तो आइये अब बिना समय गवाए विस्तार से जानते है कि टेलनेट क्या है? (What is Telnet In Hindi)

टेलनेट क्या है? - What is Telnet In Hindi

टेलनेट क्या है? – What is Telnet In Hindi

Telnet का पूरा नाम Terminal Network है। यह एक नेटवर्क प्रोटोकॉल है, जिसका इस्तेमाल virtually किसी कंप्यूटर को access करने के लिए किया जाता है। यह remote session शुरू करनें के लिए TCP/IP प्रोटोकॉल का इस्तेमाल करता है। 

यह एक text-based नेटवर्क प्रोटोकॉल है, जिसमें किसी भी प्रकार का graphics या files का अदान प्रदान नहीं होता और साथ ही यह Graphical User Interface (GUI) को भी सपोर्ट नहीं करता।

Telnet को virtually terminal कनेक्शन भी कहा जाता है क्योकि Telnet के जरिये user किसी भी दूसरे कंप्यूटर को remotely access कर सकता है। 

नोट -: जिस कंप्यूटर में आपको किसी दूसरे कंप्यूटर का remotely access चाहिए होता है उसे लोकल कंप्यूटर कहते है, वही जो कंप्यूटर कनेक्शन accept करता है उसे remote कंप्यूटर कहते है। 

Telnet के जरिए हम किसी नेटवर्क में एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर को आसानी से remotely access कर सकते है। इसके लिए हमे बार-बार उस सर्वर के पास जाने की जरुरत नहीं पड़ती। बिना किसी सर्वर के पास जाए ही हम Telnet की मदद से कंप्यूटर को access करके उसकी जानकारी प्राप्त कर सकते है जिससे हमारा समय भी बचता है।

कंप्यूटर में telnet कनेक्शन start करने के लिए यूजरनेम और पासवर्ड से लॉगिन होना पड़ता है। लॉगिन होने के बाद आप उस कम्यूटर को कही से भी remotely access कर सकते है। टेलनेट के जरिये कनेक्टेड कंप्यूटर की दूरी कुछ किलोमीटर या दूसरे देश तक भी हो सकती है। 

टेलनेट एक command based प्रोटोकॉल है मतलब कि ये कमांड के अनुसार कार्य करता है और हमे रिजल्ट दिखाता है। यह command line interface का इस्तेमाल कंप्यूटर को नेटवर्क में कनेक्ट करने के लिए करता है जिसके जरिये connected कंप्यूटर आपस में एक दूसरे के साथ communication करते है। 

telnet का इस्तेमाल पब्लिक नेटवर्क यानी इंटरनेट में करना secure नहीं होता है टेलनेट की इसी कमी को देखते हुए SSH (Secure Shell) का विकास हुवा और आजकल पब्लिक नेटवर्क यानी इंटरनेट में Telnet के स्थान पर SSH (Secure Shell) का ही उपयोग होता है। Telnet के इस्तेमाल के लिए LAN अधिक सिक्योर रहता है।

SSH (Secure Shell टेलनेट की तरह ही काम करता है लेकिन इसमें डाटा encrypted format में transmit होता है। इसकी मदद से आप दूर स्थित किसी कंप्यूटर को इंटरनेट या TCP/IP के जरिए access कर सकते है।  

Telnet और SSH में क्या अंतर है – Difference Between Telnet and SSH In Hindi

TelnetSSH
यह TCP port 23 का उपयोग करता है, जिसे विशेष रूप से LAN नेटवर्क के लिए डिज़ाइन किया गया है।  यह Default रूप से TCP पोर्ट 22 का इस्तेमाल करता है। 
सुरक्षा के मामले में यह काफी पीछे है और बहुत सिक्युरिटी risk भी है। यह काफी secure कनेक्शन होता है। 
इसमें सभी डाटा plain text में ट्रांसफर होता है। SSH में डाटा एक सिक्योर चैनल द्वारा encrypted फॉर्मेट में ट्रांसफर होता है। 
Linux और Window ऑपरेटिंग सिस्टम में टेलनेट चलता है। यह लगभग सभी ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट करता है।  
Less security के कारण Private नेटवर्क में टेलनेट का use सही होता है।   SSH को पब्लिक नेटवर्क में भी उपयोग करना safe है। 

टेलनेट के फायदे  (Advantages of Telnet In Hindi)

  • Telnet लगभग सभी ऑपरेटिंग सिस्टम में कार्य करता है।
  • इसके उपयोग से समय की काफी बचत होती है और हमे physically किसी सर्वर के पास नहीं जाना पड़ता है।
  • यह कंप्यूटर information को कमांड के अनुसार send और receive करता है।  

टेलनेट के नुकसान (Disadvantages of Telnet In Hindi)

  • Telnet कनेक्शन में user ID और password बिना encryption यानी plain text में transmit होता है,जो एक बहुत बड़ा security risk है। हैकर हमारी जानकारी आसानी से हैक कर सकता है। यह encryption का इस्तेमाल नहीं करता।  
  • यह एक text-based प्रोटोकॉल है जिसमें GUI आधारित tools काम नहीं करता। 
  • Telnet का इस्तेमाल अधिक secure नहीं होता। 
  • यह एक ineffective प्रोटोकॉल है। 

क्‍या टेलनेट का उपयोग करना सुरक्षित है?

जी नहीं, Telnet एक secure नेटवर्क कनेक्शन नहीं है। चूंकि, इसका विकास इंटरनेट से पहले हुआ था, जिस कारण यह आजकल के इंटरनेट सिक्योरिटी के मामले में बहुत पुराना है। Telnet में encryption का उपयोग नहीं होता है। जब आप टेलनेट मे यूजरनेम और पासवर्ड से लॉगिन करते है तो आपका डाटा plain text में transmit होता है।

इस डाटा की चोरी होने कि संभावना बनी रहती है। इन्ही सभी security risk के कारण टेलनेट का इस्तेमाल करना सही नहीं है। Telnet LAN या प्राइवेट नेटवर्क मे थोड़ा safe रहता है।

आजकल लोग telnet की जगह SSH का उपयोग कर रहे है जो Telnet की तरह ही काम करता है लेकिन यह टेलनेट से अधिक secure है और इसमें यूजरनाम और पासवर्ड  encrypted रूप में ट्रांसफर होता है।   

Telnet के कुछ useful commands 

1) close -:इसका इस्तेमाल current telnet कनेक्शन को समाप्त करने के लिए होता है।

2) quit -: यह command अन्य सभी current कनेक्शन के साथ telnet कनेक्शन को भी terminate करता है। 

3) mode type -: इस कमांड का उपयोग ट्रांसमिशन के प्रकार को specify करने के लिए होता है। 

4) open hostname -: यह कमांड existing कनेक्शन पर specified होस्ट के ऊपर एक और कनेक्शन बनाने के लिए उपयोग होता है। 

5) display argument -: यह कई प्रकार के चल रहे कनेक्शन को प्रदर्शित करता है। जैसे – Terminal, type port, इत्यादि। 

6) unset -: यह कमांड को कनेक्शन मापदंडों (parameters) को बदलने के लिए किया जाता है।

Conclusion

दोस्तों आज के इस आर्टिल्स में हमने Telnet के बारे में बात की और जाना कि Telnet क्या है? (What is Telnet In Hindi) इसके क्या क्या कार्य होते हैं और टेलनेट के क्या फायदे व क्या नुकसान है। 

अगर आप कंप्यूटर नेटवर्किंग का Complete Tutorial चाहते है तो मेरे इस आर्टिकल Computer Network Tutorial In Hindi को देखे | यहाँ आपको कंप्यूटर फंडामेंटल्स के सभी टॉपिक्स step by step मिल जाएगी |

तो दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा और यदि ये आर्टिकल आपको पसंद आया है तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी Telnet Kya Hai के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके .

अगर आपको अभी भी Telnet In Hindi से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप कमेंट्स के जरिए हमसे पुछ सकते है। मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

ऐसे ही नया टेक्नोलॉजी ,Computer Science, इंटरनेट, नेटवर्किंग से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.

Powered By
Best Wordpress Adblock Detecting Plugin | CHP Adblock