|

UDP क्या है? What is UDP In Hindi (सम्पूर्ण जानकारी)

Definition -: UDP का अर्थ User Datagram Protocol है। यह इंटरनेट में संचार के लिए उपयोग किए जाने वाले एक प्रोटोकॉल है जिसे विशेष रूप से गेमिंग, वीडियो चलाने या डोमेन नेम सिस्टम (DNS) लुकअप जैसे time-sensitive एप्लीकेशन के लिए उपयोग किया जाता है। 

UDP का कार्य TCP के समान संदेश भेजने और प्राप्त करने के लिए किया जाता है। 

UDP के परिणामस्वरूप तेजी से संचार हो पाता है क्योंकि यह डेटा स्थानांतरित करने से पहले गंतव्य अर्थात रिसीवर के साथ कनेक्शन स्थापित में समय नहीं लगाता।

यह डेटा पैकेट की डिलीवरी की गारंटी भी नहीं देता है। यह इस बात की भी परवाह नहीं करता है कि डेटा रिसीवर की ओर से प्राप्त हुआ है या नहीं, इसलिए इसे “fire-and-forget” प्रोटोकॉल के रूप में भी जाना जाता है। 

UDP, टीसीपी की तरह कुछ set of rules प्रदान करता है जो नियंत्रित करता है कि इंटरनेट पर डेटा का आदान-प्रदान कैसे किया जाना चाहिए। 

टीसीपी और यूडीपी दोनों प्रोटोकॉल इंटरनेट प्रोटोकॉल नेटवर्क पर डेटा भेजते हैं, इसलिए इसे TCP/IP और UDP/IP के रूप में भी जाना जाता है। 

इन दो प्रोटोकॉल के बीच कई अंतर हैं। UDP, संदेशों को डेटाग्राम के रूप में भेजता है, जबकि टीसीपी संदेशों को अलग-अलग छोटे पैकेट में भेजता है। 

टीसीपी एक connection-oriented protocol है, जबकि यूडीपी एक connectionless protocol है। इसमें डेटा ट्रांसफर करने के लिए किसी वर्चुअल सर्किट की आवश्यकता नहीं होती। 

UDP में TCP के सामान कनेक्शन बनाने, बनाए रखने और समाप्त करने का भी कोई ओवरहेड नहीं होता।

यूडीपी प्रोटोकॉल को David P. Reed ने 1980 में विकसित किया था। इसे RFC 768 में परिभाषित किया गया है, और यह टीसीपी/आईपी प्रोटोकॉल का एक हिस्सा है। 

UDP, कंप्यूटर एप्लिकेशन्स को नेटवर्क पर एक मशीन से दूसरी मशीन पर डेटाग्राम के रूप में संदेश भेजने की अनुमति प्रदान करता है। 

UDP, यूडीपी पैकेट में डेटा को इनकैप्सुलेट करके और पैकेट को अपनी हेडर जानकारी प्रदान करके काम करता है। फिर, इस यूडीपी पैकेट को आईपी पैकेट में इनकैप्सुलेट किया जाता है और उसके गंतव्य के लिए रवाना किया जाता है। 

यह मुख्य रूप से रीयल-टाइम डेटा ट्रांसमिट करने के लिए उपयोग किया जाता है जहां हम किसी भी ट्रांसमिशन देरी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। 

यूडीपी, निरंतर डेटा स्ट्रीम के रूप में डेटा को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में भेजता है।

Summary of UDP

  • UDP को 1980 में डेविड पी. रीड द्वारा विकसित किया गया था।
  • यूडीपी एक connectionless और unreliable प्रोटोकॉल है।
  • चूंकि यूडीपी एक connectionless प्रोटोकॉल है, इसलिए डेटा ट्रांसमिट करने से पहले कनेक्शन स्थापित करने की कोई आवश्यकता नहीं होती।
  • यूडीपी टीसीपी से तेज है क्योंकि यह पैकेटों की डिलीवरी की गारंटी नहीं देता।
  • यूडीपी पैकेट को यूजर डेटाग्राम कहा जाता है।
  • यूजर डेटाग्राम में 8 बाइट्स फिक्स्ड-साइज़ हेडर होते हैं।
  • यूडीपी प्रोटोकॉल, TCP (ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल) के विकल्प की तरह ही काम करता है।

यूडीपी कैसे कार्य करता है? (Working of UDP In Hindi)

अन्य नेटवर्किंग प्रोटोकॉल की तुलना में, यूडीपी की प्रक्रिया काफी सरल होती है। इसमें पहले एक कंप्यूटर की पहचान की जाती है और डेटा पैकेट, जिसे “डेटाग्राम” कहा जाता है, उसे भेजा जाता है। 

यूडीपी एक यूडीपी पैकेट में डेटा एकत्र करके काम करता है, और पैकेट में, यह अपनी हेडर जानकारी जोड़ता है।

यूडीपी पैकेट, जिसे user datagrams कहा जाता है, में निम्नलिखित शामिल होती हैं -:

  • Source port number -: सोर्स पोर्ट नंबर 2 बाइट्स फ़ील्ड है जो सेन्डर के पोर्ट नंबर को परिभाषित करता है।
  • Destination port number -: डेस्टिनेशन पोर्ट नंबर 2 बाइट्स फील्ड है जो डेस्टिनेशन के पोर्ट नंबर को परिभाषित करता है।
  • Packet length -: Packet length भी 2 बाइट्स फ़ील्ड है जो user datagram की कुल लंबाई (हेडर लंबाई + डेटा लंबाई) को परिभाषित करता है। 
  • Checksum -: यह चेकसम ले जाने के लिए 2 बाइट्स का एक ऑप्शनल फ़ील्ड है।

इसके बाद यूडीपी पैकेट को आईपी पैकेट में इनकैप्सुलेट किया जाता है इसके बाद उनके गंतव्य पर इसे भेजा जाता है। 

यूडीपी में, प्राप्त पैकेट के लिए कोई acknowledgment उत्पन्न नहीं होती है, इसलिए सेन्डर भेजे गए पैकेट की acknowledgment की प्रतीक्षा नहीं करता है।

UDP क्या है? What is UDP In Hindi (सम्पूर्ण जानकारी)

Note – यूडीपी में चेकसम calculation अनिवार्य नहीं है। यूडीपी द्वारा  Error control  या  flow control नहीं किया जाता है। इसलिए यूडीपी error reporting के लिए IP और ICMP पर निर्भर करता है।

यूडीपी के उपयोग (Applications of UDP In Hindi)

  • रियल-टाइम एप्लिकेशन में यूडीपी का उपयोग किया जाता हैं।
  • UDP हेडर 8 बाइट्स का होता है। इसकी संचरण गति के कारण यूडीपी,DNS, DHCP, RIP, आदि जैसे प्रोटोकॉल नेटवर्क पर उचित डेटा ट्रांसमिशन के लिए उपयोग किया जाता हैं।
  • यूडीपी पैकेट स्विचिंग करता है, इसलिए यूडीपी को मल्टीकास्टिंग के लिए उपयुक्त प्रोटोकॉल माना जाता है।
  • यह सबसे सरल ट्रांसपोर्ट लेयर प्रोटोकॉल है।  इसे इंटरनेट पर डेटा पैकेट भेजने के लिए डिजाइन किया गया है। यह नेटवर्क लेयर से डेटाग्राम लेता है, इसके हेडर को जोड़ता है और उपयोगकर्ता को भेजता है।
  • SNMP जैसी मैनेजमेंट प्रोसेस यूडीपी का उपयोग करती हैं।
  • इसका उपयोग TFTP द्वारा छोटी फाइलें भेजने के लिए किया जाता है।
  • UDP का उपयोग कुछ रूटिंग अपडेट प्रोटोकॉल जैसे रूटिंग इंफॉर्मेशन प्रोटोकॉल (RIP) में भी किया जाता है।
  • निम्नलिखित implementations, UDP को ट्रांसपोर्ट लेयर प्रोटोकॉल के रूप में उपयोग करते हैं -:
    • NTP (Network Time Protocol)
    • DNS (Domain Name Service)
    • BOOTP, DHCP 
    • NNP (Network News Protocol)
    • Quote of the day protocol
    • RTSP, RIP.

यूडीपी की विशेषताएं -: Features of UDP In Hindi

  • यह एक connectionless protocol है।
  • यह एक स्टेटलेस प्रोटोकॉल है।
  • यह एक unreliable प्रोटोकॉल है क्योकि यह डेटा के रिसीवर तक पहुंचने की कोई गारंटी नहीं देता। 
  • यह एक तेज प्रोटोकॉल है।
  • यह crowd control mechanism प्रदान नहीं करता।
  • UDP का उपयोग तब किया जाता है जब डेटा की acknowledgment का कोई महत्व नहीं होता। 
  • UDP एक दिशा में बहने वाले डेटा के लिए एक अच्छा प्रोटोकॉल है।
  • यूडीपी simple और query based संचार के लिए उपयुक्त है।
  • यूडीपी, VoIP, मल्टीमीडिया स्ट्रीमिंग जैसे स्ट्रीमिंग अनुप्रयोगों के लिए उपयुक्त प्रोटोकॉल है।

यूडीपी की आवश्यकता (Need of UDP)

टीसीपी कुछ applications के लिए एक ओवरहेड साबित होता है। इस ओवरहेड से बचने के लिए, कुछ एप्लिकेशन जिन्हें तेज गति और कम ओवरहेड की आवश्यकता होती है, वे यूडीपी का उपयोग करते हैं।

यह मुख्य रूप से रीयल-टाइम डेटा ट्रांसमिट करने के लिए उपयोग किया जाता है जहां हम किसी भी ट्रांसमिशन देरी को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। 

जैसा कि वीडियो स्ट्रीमिंग के मामले में, कुछ पैकेटों के खो जाने से कोई समस्या नहीं होती, और इसे नज़रअंदाज़ भी किया जा सकता है तो यहाँ यूडीपी का उपयोग करना उपयुक्त होता है। 

इसी तरह चैटिंग और ऑनलाइन गेम जैसे रीयल टाइम एप्लिकेशन में भी जैसे प्रोटोकॉल की आवश्यकता होती है। 

यूडीपी के लाभ (Advantages of UDP In Hindi)

यूडीपी के फायदे निम्नलिखित हैं :

  • यूडीपी सबसे आसान transport layer protocol है।
  • यूज़र डेटाग्राम डेटा की तेज़ डिलीवरी प्रदान करता है क्योंकि यूडीपी में कोई acknowledgment mechanism नहीं होता।
  • error का पता लगाने के लिए, यूडीपी प्रोटोकॉल चेकसम का उपयोग करता है।
  • यूडीपी बैंडविड्थ का कुशलता से उपयोग करता है, क्योंकि इसमें एक छोटा पैकेट ओवरहेड होता है।
  • चूंकि डेटा सेंड करने से पहले कनेक्शन स्थापना करने की कोई आवश्यकता नहीं है, इसलिए यूडीपी काफी तेज होता है।
  • पैकेटों की कोई बफरिंग और नंबरिंग नहीं होती।
  • यह real-time applications काफी उपयोगी होता है।
  • यह बैंडविड्थ को भी बचाता है।
  • जहाँ स्पीड की ज़रूरत ज़्यादा हो वहाँ यह सर्वोत्तम काम करता है। 
  • चैंटिग, विडिओगेम, विडियो कालिंग, स्क्रीनिंग, ब्रॉडकास्टिंग के लिए बेहद उपयोगी होता है।

यूडीपी के नुकसान (Disadvantages of UDP In Hindi)

  • यूडीपी एक unreliable प्रोटोकॉल है।
  • यूडीपी प्रोटोकॉल congestion control service प्रदान नहीं करता।
  • यूडीपी प्रोटोकॉल द्वारा Flow control नहीं किया जाता ।
  • यूडीपी में कोई acknowledgment mechanism नहीं है। 
  • यह डेटा डिलीवरी की कोई गारंटी नहीं देता। 
  • बहुत तेज़ स्पीड की वजह से ट्रांसमिशन के दौरान डाटा पैकेट नष्ट होने की सम्भावना बहुत ज्यादा बड़ जाती है। 
  • UDP में क्रम यानि sequence निश्चित नहीं होता, रिसीवर को किसी भी क्रम में डाटा मिल सकता है।

UDP और TCP में अ॔तर (Difference between UDP and TCP In Hindi)

UDP और TCP  दोनो ट्रांसपोर्ट लेयर प्रोटोकॉल है जिनमे निम्नलिखित अंतर है -:

  1. सम्पर्क: TCP हमेशा सम्पर्क बनाकर डाटा भेजता है जबकि UDP बिना सम्पर्क बनाए सीधे एप्लिकेशन से डाटा भेजना शुरू कर देता है।
  2. गारंटी: TCP में डाटा बाईटस  की यूज़र तक पहुंचने की गारंटी होती है लेकिन UDP में कोई गारंटी नहीं होती।
  3. क्रम: TCP में हमेशा डाटा रिसीवर एंड तक क्रम में जाता है जैसे p1 p2 p3 p4 पर UDP में कोई क्रम तय नहीं होता।
  4. Error कंट्रोल:  TCP में error control आवश्यक होता है यानि डाटा ट्रांसफर के समय Checksum का यूज़ कर error detect की जाती हैं लेकिन UDP  में error control आप्शनल होता है यानि बिना Checksum का यूज़ के डाटा भेजा जा सकता है।
  5. स्पीड: TCP  में डाटा ट्रांसमिशन की स्पीड UDP में डाटा ट्रांसमिशन की स्पीड के मुकाबले कम होती है।क्योंकि TCP में डाटा एक ही नेटवर्क से भेजा जाता है जबकि UDP में अलग-अलग नेटवर्क से डाटा ट्रांसफर किया जाता है वो भी बिना कनेक्शन के।
  6. हेडर: TCP का हेडर ज्यादा loaded होता है, TCP  के हेडर में 60-80 bytes होते हैं जबकि UDP के हेडर में सिर्फ 8 bytes होते हैं।

Conclusion

दोस्तों आज के इस आर्टिल्स में हमने UDP (User Datagram Protocol) के बारे में बात की और जाना कि UDP क्या है? (What is UDP In Hindi) UDP काम कैसे करता है? UDP की क्या विशेषताएं है और UDP क्यों महत्वपूर्ण है?

तो दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा और यदि ये आर्टिकल आपको पसंद आया है तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी UDP Kya Hai के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके.

अगर आपको अभी भी UDP In Hindi से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप कमेंट्स के जरिए हमसे पुछ सकते है। मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

ऐसे ही टेक्नोलॉजी, Computer Science, नेटवर्किंग से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *