Extranet क्या है? – What is Extranet in Hindi

हेलो फ्रेंड्स आज के इस आर्टिकल में हम Extranet के बारे में बात करने वाले है | 

आज हम विस्तार से जानेंगे कि एक्स्ट्रानेट क्या है? (What is Extranet in Hindi ) कैसे काम करता है? एक्स्ट्रानेट उपयोग करने के क्या लाभ है? आदि |

तो चलिए बिना समय गवाए सबसे पहले जानते है कि Extranet Kya Hai?

Extranet क्या है? (What is Extranet in Hindi)
Extranet क्या है? (What is Extranet in Hindi)

एक्स्ट्रानेट क्या है? (What is Extranet in Hindi ) 

यह intranet का एक पार्ट है जो internet protocols (TCP/IP) पर आधारित होता है | 

यह एक communication network है जो कंपनी से बाहर के लोगों जैसे trading partners, customers, और दूसरे businesses को सिक्योर तरीके से कंपनी से कनेक्ट करने का कार्य करता है | 

यह एक प्राइवेट नेटवर्क है जो कंपनी के संपूर्ण नेटवर्क तक पहुंच दिए बिना कंपनी के Data और informations को कंपनी से बाहर के authorized यूजर को शेयर करने के लिए एक सिक्योर वातावरण प्रदान करती है | 

कंपनी से बाहर के यूजर को इस नेटवर्क को एक्सेस करने के लिए आईडी, पासवर्ड और अन्य प्रमाणीकरण की आवश्यकता होती है | 

Extranet के लाभ (Benefits of Extranet in Hindi)

  • यह कंपनी और उनके ट्रेंडिंग पार्टनर्स के बीच एक इंटरफेस के रूप में कार्य करती है | 
  • यह कस्टमर को अपनी query और कम्प्लेन करने के लिए एक प्लेटफार्म प्रदान करती है जो कंपनी की कस्टमर सर्विस को इम्प्रूव करता है | 
  • यह कंपनी को अपने पार्टनर्स के साथ बिना पेपरवर्क के जानकारी साझा करने की अनुमति प्रदान करता है | 
  • इसके द्वारा हम लार्ज Amount में डाटा ट्रांसफर कर सकते है |

एक्स्ट्रानेट कैसे काम करता है? (How work Extranet In Hindi)

Extranet को Virtual Private Networks (VPN) के रूप में implement किया जाता है क्योंकि यह बाहरी लोगों को संगठन से जोड़ने के लिए इंटरनेट का उपयोग करता है जो कि इन्सिक्योर होता है इससे सुरक्षा को खतरा हो सकता है। इसलिए Virtual Private Networks (VPN) का उपयोग किया जाता है जो इंटरनेट जैसे सार्वजनिक नेटवर्क में एक सुरक्षित नेटवर्क प्रदान करता है।

Extranet में डेटा और इनफार्मेशन को शेयर या ट्रांसफर करने के लिए transmission control protocol (TCP) और internet protocol (IP) का उपयोग होता है | 

Key point 

  • यह packets और IP addresses को encapsulate करने के लिए encryption key का उपयोग करती है | 
  • पैकेट को केवल IPSEC कंप्लेंट राऊटर और सर्वर द्वारा की डिकोड किया जा सकता है | 
  • VPN टनल के माध्यम से message को VPN पर भेजा जाता है और इस प्रक्रिया को Tunneling के रूप में जाना जाता है।

VPN, टीसीपी/आईपी प्रोटोकॉल में डेटा ट्रांसफर को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करने के लिए Internet Protocol Security Architecture (IPSEC) प्रोटोकॉल का उपयोग करती है | इस परत को IP पैकेट को एक नए IP पैकेट में जोड़ करके बनाया गया है जैसा कि निम्नलिखित चित्र में दिखाया गया है:

Extranet क्या है? - What is Extranet in Hindi

इन सब के आलावा नेटवर्क को और ज्यादा सिक्योर बनाने के लिए फ़ायरवॉल और पासवर्ड का भी उपयोग किया जाता है | 

Firewall -: यह unauthorized यूजर को नेटवर्क में प्रवेश करने से रोकता है | 

Password -: यह भी unauthorized यूजर को नेटवर्क में प्रवेश करने से रोकता है  साथ ही यह कंपनी में किसी यूजर द्वारा सर्वर में स्टोर highly कॉन्फिडेंशियल इनफार्मेशन के एक्सेस को भी रोकता है | 

Limitation of Extranet

1. Hosting

यदि आप एक्सट्रानेट के पेज और फाइल को अपने सर्वर में होस्ट करना चाहते है तो इसके लिए आपको high bandwidth इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होती है जो कि काफी महंगी होती है | 

2. Security

यदि आप इसे अपने सर्वर में होस्ट करते है तो इसके लिए एक्स्ट्रा फ़ायरवॉल सिक्योरिटी की आवश्यकता होगी जो वर्कलोड को बढ़ा देगा तथा security mechanism काफी काम्प्लेक्स हो जायेगा | 

3. Dependency

यह इंटरनेट पर डिपेंड करता है क्योकि बाहर के लोग बिना इंटरनेट के इसको एक्सेस नहीं कर सकते | 

4. Less Interaction

यह लोगो के बिच face to face को कम कर देता है जिससे आपसी रिलेशनशिप कमजोर हो जाती है | 

इन्हे भी पढ़े – :

निष्कर्ष

दोस्तों आशा करता हु कि आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको Extranet क्या है? ( What is Extranet in Hindi ) कैसे काम करता है? और एक्स्ट्रानेट क्या उपयोग है? से संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी और आपको और कही इसके बारे में सर्च करना नहीं पड़ेगा |

अगर आप कंप्यूटर फंडामेंटल Complete Tutorial चाहते है तो मेरे इस आर्टिकल Computer Fundamental Tutorial In Hindi को देखे | यहाँ आपको कंप्यूटर फंडामेंटल्स के सभी टॉपिक्स step by step मिल जाएगी |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको Extranet Kya Hai? के बारे में काफी जानकरी हुई होगी |

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो इस पोस्ट को अपने अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी ये जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आपको अभी भी Extranet In Hindi से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप जरूर बताये मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

एसी ही नया टेक्नोलॉजी , Computer science से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Thank you आपका दिन मंगलमय हो |

पढ़ते रहिए और बढ़ते रहिए | Keep Reading and Keep Growing

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

Leave a Comment