Intranet क्या है? (What is Intranet In Hindi)

हेलो फ्रेंड्स आज के इस आर्टिकल में हम Intranet के बारे में बात करने वाले है | 

आज हम विस्तार से जानेंगे कि इंट्रानेट क्या है? (What is Intranet in Hindi ) कैसे काम करता है? इंट्रानेट उपयोग करने के क्या लाभ है और क्या नुकसान है? आदि |

तो चलिए बिना समय गवाए सबसे पहले जानते है कि Intranet Kya Hai?

इंट्रानेट क्या है? (What is Intranet In Hindi)
इंट्रानेट क्या है? (What is Intranet In Hindi)

इंट्रानेट क्या है? (What is Intranet In Hindi)

Intranet एक प्राइवेट नेटवर्क है जो किसी पर्टिकुलर Organization को बिलोंग करता है | इसको मुख्य रूप से ओर्गनइजेशन्स में employees के बिच आपस में सुरक्षित कम्युनिकेशन के लिए डिज़ाइन किया गया है | 

यह authorized users के बिच फाइल्स और डाटा ट्रांसफर करने के लिए एक सिक्योर platform प्रदान करता है | 

इंट्रानेट के माध्यम से Confidential information, database, links, forms, और  applications आदि सिक्योर तरीके से employees को प्रदान की जाती है | 

एक तरह से इंट्रानेट एक प्राइवेट नेटवर्क होता है जो ओर्गनइजेशन द्वारा Confidential information और डेटा को शेयर करने के लिए बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाता है | 

जिस तरह इंटरनेट में हर कंप्यूटर का एक अलग IP एड्रेस होता है वैसे ही इंट्रानेट में भी हर कंप्यूटर के एक डिफरेंट IP एड्रेस होता है जो इंटरनेट में मौजूद IP एड्रेस से अलग होता है | 

इंट्रानेट, TCP/IP protocol (Internet Protocol) पर आधारित होता है, जो Firewall और दूसरे सिस्टम द्वारा unauthorized access को रोकता है | फ़ायरवॉल incoming और outgoing डेटा पैकेट को मॉनिटर करता रहता है | 

इंट्रानेट के अंदर मौजदू यूजर इंटरनेट को आसानी से एक्सेस कर सकता है मगर इंटरनेट यूजर को अगर इंट्रानेट को एक्सेस करना है तो सबसे पहले उसे उसका अधिकार मिला होना चाहिए और दूसरा उसे उस LAN से कनेक्ट होना पड़ेगा | 

Intranet के लाभ (Benefits of intranet in Hindi)

intranet उपयोग करने के निम्नलिखित लाभ है -:

  1. Easy to Implement 
  2. More Secure Than Internet 
  3. Communication
  4. Business Management
  5. Workforce Productivity
  6. Platform Independency
  7. Immediate Updates
  8. Security
  9. Time Saving
  10. Collaboration

1. Easy to Implement 

यह इंटरनेट की तुलना में काफी सस्ता और सरल है इसे आसानी से Implement और रन किया जा सकता है |  

2. More Secure Than Internet 

इंटरनेट की तुलना में इंट्रानेट काफी सिक्योर होता है |

3. Communication

Internet कंपनी में employees के बीच बिना किसी देरी के डेटा, इनफार्मेशन और फाइल को सुव्यवस्थित तरीके से साझा करने की सुविधा प्रदान करता है | कंपनी में उपस्थित सभी employees कंपनी की सभी अनाउंसमेंट प्राप्त कर सकते हैं, अपना सवाल पूछ सकते हैं और कोई डॉक्यूमेंट की जरुरत होने पर उसे आसानी से एक्सेस कर सकते है | 

4. Business Management

इंट्रानेट business operations को support करने के लिए applications को स्टोर करने और डेवेलोप करने के लिए एक सुरक्षित स्थान प्रदान करती है।

5. Workforce Productivity

इंट्रानेट में डेटा हर समय मौजूद होता है जिसे कंपनी की वर्कस्टेशन की मदद से एक्सेस किया जा सकता है जिससे employees को तेजी से कार्य करने में मदद मिलती है जिससे उनकी Productivity बढ़ जाती है।

6. Platform Independency

यह प्लेटफार्म इंडिपेंडेंट है | यह कंप्यूटर और अन्य डिवाइस को अलग अलग architecture से जोड़ सकती है।

7. Immediate Updates

Internet में जितने भी इन्फोर्मेशन होते है वो सभी Shared (साझा किये) होते है जिससे यदि किसी इनफार्मेशन में अपडेट या बदलाव होता है तो वो बदलाव बाकी यूजर को भी प्रभावित करता है।

8. Security

चुकी इंट्रानेट में मौजूद इनफार्मेशन केवल उस organization के employees ही उपयोग कर सकते है इसलिए डेटा लीक होने की कोई संभावना नहीं होती। इनफार्मेशन काफी सिक्योर होता है।

9. Time Saving

इंट्रानेट में इंफॉर्मेशन और डेटा रियल टाइम में मौजूद होता है जिसे सभी employees जब चाहे तब उपयोग कर सकते है। इससे समय की बचत होती है।

10. Collaboration

इंट्रानेट में इन्फोर्मेशन एम्प्लाइज के बीच उनके जरूरत के हिसाब से बंटा है और इन्हे केवल ऑथॉरिज़ेड यूजर द्वारा की एक्सेस किया जा सकता है जिससे टीमवर्क बढ़ता है।

इंट्रानेट कैसे काम करता है? (How Intranet Works in Hindi)

एक इंट्रानेट मुख्य रूप से इन तीन बेसिक कंपोनेंट्स से मिलकर बना होता है – वेब सर्वर, इंट्रानेट प्लेटफार्म, और एप्लीकेशन | 

वेब सर्वर एक हार्डवेयर कंपोनेंट्स होता है जो इंट्रानेट में मौजूद सभी डेटा, इनफार्मेशन और सॉफ्टवेयर को स्टोर करके रखने का कार्य करता है | यह सर्वर पर होस्ट की गई फ़ाइलों के लिए आने वाले request को मैनेज करते है यह यूजर द्वारा किसी फाइल के request आने पर उस फाइल को पहले ढूंढ़ता है और फिर उसे यूजर को दे देता है | 

intranet platform एक सॉफ्टवेयर है जो communication tools, collaboration apps, और databases को आसानी से कार्य करने में मदद करता है | 

यूजर को अपना काम करने के लिए एप्लीकेशन की आवश्यकता होती है | एप्लीकेशन एक कंप्यूटिंग डिवाइस है जो यूजर को अपना काम करने, कम्युनिकेशन करने और एक दूसरे के साथ समन्वय करने और जानकारी को पुनः प्राप्त करने और संग्रहीत करने की अनुमति प्रदान करते हैं। इससे यूजर का काम काफी आसान हो जाता है |  

अगर कोई यूजर इंट्रानेट से कनेक्ट होना चाहता है तो उसे एक नेटवर्क पासवर्ड की जरूरत होती है और साथ ही उसे उस LAN से भी जुड़ा होना चाहिए | 

यदि कोई authorized यूजर कही दूर है और दूर से ही इंट्रानेट से कनेक्ट होकर अपना वर्क करना चाहता है तो वह वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (VPN) के माध्यम से इंट्रानेट से जुड़ सकता है | 

Examples of Intranet

1. Educational Intranet

यह ज्यादातर स्कूल, कॉलेज में पाया जाता है | For Example, स्कूल इंट्रानेट, स्कूल टीचर्स को आपस में स्कूल से रिलेटेड इनफार्मेशन जैसे – टाइम टेबल बनाना, एग्जाम की जानकारी साझा करना, नई अपडेट आदि की जानकारियां शेयर करने की अनुमति प्रदान करती है |

2. Real Estate Intranet

रियल एस्टेट कंपनी का इंट्रानेट sales टीम को brochures, templates, forms जैसे सभी इम्पोर्टेन्ट इनफार्मेशन और डेटा तक आसानी से एक्सेस करने की अनुमति प्रदान करती है | इसका उपयोग employees को नई आने वाले इवेंट्स का अपडेट, मोटिवेशनल मैसेज आदि देने के लिए भी किया जाता है | 

3. IT Sector Intranet

IT sector में ऐसे कई सारी जानकारियां होती है जिसे एक साथ सभी कर्मचारियों के साथ साझा करने की आवश्यकता होती है। यह जानकारी किसी project से संबंधित हो सकती है, कोई दिशा निर्देश, रूल्स जिसे उन प्रोजेक्ट को बनाने के फॉलो करना जरूरी हो | 

4. Health Care Intranet

हेल्थ केयर सेक्टर में बड़े बड़े हॉस्पिटल में, डॉक्टरों के बिच एक टीम वर्क करने , मरीज का ईलाज करने आदि में इंट्रानेट हेल्प करता है |  डॉक्टर एक विभाग से दूसरे विभाग में जाये बिना रिपोर्ट, उपचार प्रक्रिया, बिल और डेटा बड़े आसानी से  स्थानांतरित कर सकते हैं।

इंट्रानेट के नुकसान (Disadvantages of Intranet In Hindi)

  • इंट्रानेट महंगा होता है क्योंकि यह थोड़ा जटिल होता है |
  • यदि इंट्रानेट में Firewall इनस्टॉल न किया जाये या Firewall सही से वर्क न करे तो यह हैक हो सकता है | 
  • passwords Highly secure होना चाहिए जिसे कोई बहरी यूजर अंदाजा भी न लगा सके | 
  • इंट्रानेट पर कण्ट्रोल खोने का डर हमेशा बना होता है | 
  • कभी कभी कोई डॉक्यूमेंट या डेटा डुप्लीकेट हो सकता है तो employees के बीच Confusion हो सकता है | 
  • इंट्रानेट में कई सारे लोगो को एक्सेस देना पड़ता है जिससे नेटवर्क को कण्ट्रोल करना थोड़ा मुश्किल हो सकता है | 

इन्हे भी पढ़े – :

निष्कर्ष

दोस्तों आशा करता हु कि आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको इंट्रानेट क्या है? (What is Intranet in Hindi ) कैसे काम करता है? इंट्रानेट उपयोग करने के क्या लाभ है और क्या नुकसान है? से संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी और आपको और कही इसके बारे में सर्च करना नहीं पड़ेगा |

अगर आप कंप्यूटर फंडामेंटल Complete Tutorial चाहते है तो मेरे इस आर्टिकल Computer Fundamental Tutorial In Hindi को देखे | यहाँ आपको कंप्यूटर फंडामेंटल्स के सभी टॉपिक्स step by step मिल जाएगी |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको Intranet Kya Hai ? के बारे में काफी जानकरी हुई होगी |

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो इस पोस्ट को अपने अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी ये जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आपको अभी भी Intranet In Hindi से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप जरूर बताये मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

एसी ही नया टेक्नोलॉजी , Computer science से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Thank you आपका दिन मंगलमय हो |

पढ़ते रहिए और बढ़ते रहिए | Keep Reading and Keep Growing

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

Leave a Comment