|

IP Address Classes या Classful Addressing क्या है? – सम्पूर्ण जानकारी

हेलो फ्रेंड्स, आज के इस आर्टिकल में हम IP Address Classes या Classful Addressing के बारे में बात करने वाले है। 

आज हम विस्तार से जानेंगे कि IP Address Classes या Classful Addressing क्या है? और इसका क्या उपयोग है?

तो आइये बिना समय गवाए जान लेते है कि IP Address Classes या Classful Addressing क्या है? (What is IP Address Classes In Hindi)

IP Address Classes and Classful Addressing

IP Address Classes या Classful Addressing क्या है?

दोस्तों IP Address का उपयोग डिवाइस को uniquely identify करने के लिए किया जाता है। आईपी ​​​​एड्रेस एक ऐसा एड्रेस होता है जिसमें जानकारी होती है कि किसी विशिष्ट होस्ट तक कैसे पहुंचा जाए, खासकर LAN के बाहर किसी होस्ट तक कैसे पंहुचा जाये। 

एक आईपी ​​​​एड्रेस को देख कर आप बता सकते है कि यह आईपी ​​​​एड्रेस किस नेटवर्क और होस्ट का पार्ट है और यह क्लासफुल एड्रेसिंग के कारण संभव हो पता है। 

Classful Addressing में 32 बिट आईपी ​​​​एड्रेस को पांच क्लास में बांटा गया है जो की है -:

  1. Class A
  2. Class B
  3. Class C
  4. Class D
  5. Class E

Class A   

इस Class A IP Address का use तब किया जाता है जब बड़ी संख्या में hosts होते हैं। इसका इस्तेमाल बड़े network के लिए किया जाता है। 

Class A, IP Address के पहले 8 बीट Network और अंतिम बचे 24 बिट host part का प्रतिनिधित्व करता है। 

Class A Address का एक Example, 102.168.212.226 है। यहां, 102 आपको Network की पहचान करने में मदद करता है और 168.212.226 hosts की पहचान करता है। 

Class A के प्रत्येक बीट की range 1 से लेकर 127 तक होती है। इसमें 127.0.0.0 से 127.255.255.255 तक की ip-address को loopback और डायग्नोस्टिक फंक्शंस के लिए आरक्षित किया गया है, अर्थात इनका उपयोग नहीं किया जा सकता है।

  • Network ID में 8 bit होते हैं।
  • Host ID में 24 bit होते हैं।
  • Network IDs =2⁷-2 = 126 (यहां 2 पता घटाया गया है क्योंकि 0.0.0.0 और 127.x.y.z स्पेशल एड्रेस हैं।)
  • Host IDs = 2²⁴-2 = 16,777,214
  • पहले ऑक्टेट का पहला bit हमेशा 0 पर सेट होता है।
IP Address Classes या Classful Addressing क्या है? - सम्पूर्ण जानकारी

नोट: आईपी एड्रेस विश्व स्तर पर Internet Assigned Numbers Authority (IANA) और क्षेत्रीय इंटरनेट रजिस्ट्रियों (RIR) द्वारा मैनेज किए जाते हैं।

नोट: होस्ट IP addresses की कुल संख्या ज्ञात करते समय, 2 आईपी एड्रेस की गणना नहीं की जाती है और इसलिए, कुल गणना से घटा दी जाती है क्योंकि किसी भी नेटवर्क का पहला आईपी एड्रेस नेटवर्क नंबर होता है और जबकि अंतिम आईपी एड्रेस broadcast आईपी के लिए आरक्षित होता है। .

Class B 

इस Class का उपयोग मध्यम आकार से लेकर बड़े आकार के Network के लिए किया जाता है। Class B IP Address में पहला 16 bit  नेटवर्क और अंतिम 16 bit के आखिरी के दो हिस्से host part को Represent करते हैं। इसकी range की बात करें तो इसकी range 128 से लेकर 191 तक होती है।

Class B IP Address का एक Example 168.212.226.204 है, जहां 168.212, Network की पहचान करता है और 226.204 आपको network host की पहचान करने में मदद करता है।

  • Network ID में 14 bit होते हैं।
  • Host ID में 16 bit होते हैं। 
  • Network IDs  = 2¹⁴ = 16384
  • Host IDs = 2¹⁶-2 = 65534 
  • पहले ऑक्टेट के पहले दो बिट हमेशा 10 पर सेट होते हैं।
Class-B-IP-Address

Class C

इस क्लास का इस्तेमाल मध्यम आकार के नेटवर्क के लिए उपयोग किया जाता है। ip-address के प्रथम 24 bit के शुरू के 3 हिस्से network id और अंतिम 8 बीट के आखिरी के 1 हिस्सा host part का प्रतिनिधित्व करता हैं। वहीं अगर इसकी range की बात करें तो  range 192 से लेकर 223 तक होती है। 

इसका इस्तेमाल ज्यादातर लोकल एरिया नेटवर्क में नेटवर्क से जुड़ने के लिए किया जाता है। 

  • Network ID में 21 bit होते हैं।
  • Host ID में 8 bit होते हैं।
  • Network IDs = 2²¹= 2097152
  • Host IDs = 2⁸-2= 254
  • पहले ऑक्टेट के पहले दो bit हमेशा 110 पर सेट होते हैं।
Class C

Class D 

इस क्लास का उपयोग नियमित नेटवर्क संचालक के लिए नहीं कर सकते हैं। इसका use Multicasting Application के लिए किया जाता है। हैं। और अगर  बात करें इस क्लास के range की तो Class D की रेंज 224 से 239 तक होता हैं। इसमें Host Address निकालने की आवश्यकता नहीं होती। 

Class D से संबंधित IP Address में पहले ऑक्टेट के पहले 4 bits 1110 के रूप में सेट हैं। शेष bits host bits हैं। 

Class D श्रेणी से संबंधित IP Address 224.0.0.0 से 239.255.255.255 तक है। Class D मल्टीकास्टिंग के लिए आरक्षित है। साथ ही, इस class में कोई सबनेट मास्क नहीं है।

Class D 

Class E

Class E IP Address का use अभी तक परिभाषित नहीं किया गया है यह अभी तकअपरिभाषित है। और बात करें इसकी range की तो Class E की range 240 से लेकर 255 तक होता है। 

Class E IP Address में 240.0.0.1 से लेकर 255.255.255.255 तक के IP Address शामिल होते हैं। Class E भविष्य में उपयोग करने के लिए आरक्षित है। इसका उपयोग भविष्य में किया जा सकता है।

Host ID असाइन करने के नियम:

होस्ट आईडी का उपयोग नेटवर्क के भीतर होस्ट की पहचान करने के लिए किया जाता है। होस्ट आईडी को निम्नलिखित नियमों के आधार पर असाइन किया गया है:

  • किसी भी नेटवर्क में, होस्ट आईडी उस नेटवर्क के लिए unique होना चाहिए।
  • होस्ट आईडी जिसमें सभी बिट्स 0 पर सेट हैं, असाइन नहीं किया जा सकता क्योंकि इस होस्ट आईडी का उपयोग आईपी एड्रेस के नेटवर्क आईडी का प्रतिनिधित्व करने के लिए किया जाता है।
  • होस्ट आईडी जिसमें सभी बिट्स 1 पर सेट हैं, असाइन नहीं किया जा सकता क्योंकि यह होस्ट आईडी उस विशेष नेटवर्क पर मौजूद सभी होस्टों को पैकेट भेजने के लिए एक broadcast address के रूप में आरक्षित होता है।

नेटवर्क आईडी असाइन करने के नियम:

एक ही फिजिकल नेटवर्क पर स्थित होस्ट को नेटवर्क आईडी द्वारा पहचाना जाता है, क्योंकि एक ही फिजिकल नेटवर्क पर सभी होस्ट को एक ही नेटवर्क आईडी असाइन किया जाता है। नेटवर्क आईडी को निम्नलिखित नियमों के आधार पर असाइन किया गया है:

  • नेटवर्क आईडी 127 से शुरू नहीं हो सकता क्योंकि 127 क्लास ए एड्रेस से संबंधित है और आंतरिक लूप-बैक फ़ंक्शन के लिए आरक्षित है।
  • 1 पर सेट नेटवर्क आईडी के सभी बिट्स आईपी broadcast एड्रेस के रूप में उपयोग के लिए आरक्षित हैं और इसलिए, इसका उपयोग नहीं किया जा सकता है।
  • 0 पर सेट नेटवर्क आईडी के सभी बिट्स लोकल नेटवर्क पर एक स्पेशल होस्ट को दर्शाने के लिए उपयोग किए जाते हैं और रूट नहीं किए जाते हैं और इसलिए, उपयोग नहीं किए जाते हैं।

Classful Addressing के साथ समस्याएं:

इस क्लासफुल एड्रेसिंग पद्धति के साथ समस्या यह है कि लाखों Class A एड्रेस बर्बाद हो जाते हैं, Class B  के कई एड्रेस बर्बाद हो जाते हैं, जबकि Class C में उपलब्ध पतों की संख्या इतनी कम है कि यह संगठनों की जरूरतों को पूरा नहीं कर सकती । Class D के पते मल्टीकास्ट रूटिंग के लिए उपयोग किए जाते हैं और इसलिए केवल एक ब्लॉक के रूप में उपलब्ध हैं। और Class E के एड्रेस आरक्षित हैं।

चूँकि ये समस्याएँ हैं, इसलिए क्लासफुल नेटवर्किंग को 1993 में Classless Inter Domain Routing (CIDR) द्वारा बदल दिया गया था। 

Conclusion

दोस्तों आज के इस आर्टिल्स में हमने IP Address Classes या Classful Addressing के बारे में बात की और जाना कि IP Address Classes या Classful Addressing क्या है? और इसका क्या उपयोग है?

तो दोस्तों आशा करता हूँ कि आपको ये आर्टिकल पसंद आया होगा और यदि ये आर्टिकल आपको पसंद आया है तो इस आर्टिकल को अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी IP Address Classes Kya or Classful Addressing Kya Hai के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके।

अगर आपको अभी भी कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप कमेंट्स के जरिए हमसे पुछ सकते है। मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है।

ऐसे ही नया टेक्नोलॉजी, Computer Science, इंटरनेट, नेटवर्किंग से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *