सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम ( Single User Operating System in Hindi)

हेलो फ्रेंड्स आज के इस आर्टिकल में हम Single User Operating System के बारे में बात करने वाले है |

आज हम विस्तार से जानेंगे कि सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? (What is Single User Operating System in Hindi) और सिंगल यूजरऑपरेटिंग सिस्टम के क्या लाभ और क्या नुकशान है? (Advantages and Disadvantages of Single User Operating System in Hindi )

तो चलिए बिना समय गवाए सबसे पहले जानते है कि Single User Operating System Kya Hai?

 Single User Operating System in Hindi
Single User Operating System in Hindi

सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? (What is Single User Operating System in Hindi)

ऐसे सिस्टम, सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम कहलाते है जो एक समय में केवल एक ही यूजर को हैंडल कर सकते है | 

उदाहरण – विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम , मैक ऑपरेटिंग सिस्टम , एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम आदि ये सभी ऐसे सिस्टम है जो एक समय में केवल एक ही यूजर के टास्कस को हैंडल कर सकते है | इसको मुख्यतः घरों में इस्तेमाल होने वाले कंप्यूटर के लिए डिज़ाइन किया गया है | 

सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम दो प्रकार के होते है -: सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम और सिंगल यूजर मल्टी टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम | 

आइये जानते है इन दोनों प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में | 

सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार (Types of Single User Operating Syatem)

  1. सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम 
  2. सिंगल यूजर मल्टी टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम |

#1. Single User Single Task Operating System

ऐसा सिस्टम जो किसी यूजर द्वारा दिए गए टास्क में से एक समय में केवल एक ही टास्क को परफॉर्म कर सकता है सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम कहलाता है | 

सिंगल यूजर सिंगल टास्क सिस्टम वाले कंप्यूटर को जब आप कोई टास्क देते है तो कंप्यूटर उस टास्क को कम्पलीट किये बिना कोई दूसरा टास्क परफॉर्म नहीं कर सकता | 

इस तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम को विशेषतः wireless phone और two way messaging devices के लिए डिज़ाइन किया गया है | 

सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण -: MS-DOS, Palm OS आदि |

Advantages of Single User Single Task Operating System

  • यह मेमोरी में काफी कम जगह लेता है | 
  • कम कीमत में उपलब्ध | 
  • ऐसे काम जिसमे एक बार में केवल एक ही टास्क परफॉर्म करने की जरुरत हो वहाँ सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम काफी उपयोगी होता है | 

Disadvantages of Single User Single Task Operating System

  • यह एक समय में यूजर द्वारा दिए गए केवल एक टास्क को परफॉर्म कर सकता है | 
  • जहाँ पर हमे एक समय में एक से ज्यादा टास्क परफॉर्म करना होता है वहाँ पर इसका उपयोग नहीं किया जा सकता | 

#2. Single User Single Multi Task Operating System

ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम जो एक समय में किसी यूजर के एक से ज्यादा टास्क को हैंडल कर सकता है सिंगल यूजर मल्टीटास्क ऑपरेटिंग सिस्टम कहलाता है | 

मल्टीयूज़र ऑपरेटिंग सिस्टम में अगर कोई यूजर एक से ज्यादा कार्य एक साथ एक ही समय में करना चाहता है तो वो ऐसा कर सकता है क्योकि सिंगल यूजर मल्टीटास्क ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर को ऐसा करने ही सुविधा प्रदान करता है |

उदाहरण – अगर आप किसी कंप्यूटर में Word चला रहे है और साथ ही आप गाने भी सुन्ना चाहते है तो ऐसे में यदि आपका कंप्यूटर सिंगल यूजर मल्टीटास्क ऑपरेटिंग सिस्टम वाला हुवा तो आप ऐसा कर सकता है क्योकि सिंगल यूजर मल्टीटास्क ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर को ऐसा करने ही सुविधा प्रदान करता है | 

मगर यदि आपका कंप्यूटर सिंगल यूजर सिंगल टास्क सिस्टम वाला हुवा तो आप ऐसा नहीं कर सकते क्योकि सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर को ऐसा करने ही सुविधा प्रदान नहीं करता जिससे सिंगल यूजर सिंगल टास्क ऑपरेटिंग सिस्टम वाले कंप्यूटर में ये पॉसिबल ही नहीं है |

सिंगल यूजर मल्टीटास्क ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण  -: Windows, Linux, Mac O/S

Advantages of Single User Single Multi Task Operating System

  • एक समय में एक से ज्यादा कार्य कर सकते है 
  • इससे समय की बचत होती है | 
  • कम समय में ज्यादा आउटपुट निकाल सकते है | 

Disadvantages Single User Single Multi Task Operating System

  • सिंगल यूजर सिंगल टास्क वाले ऑपरेटिंग सिस्टम की तुलना में थोड़ी ज्यादा मेमोरी स्पेस की जरुरत होती है | 
  • यह अधिक कॉम्प्लेक्स होता है |

Features of Single User Operating System 

  • इसे एक समय के केवल एक व्यक्ति इस्तेमाल कर सकता है | 
  • ज्यादा सिक्योरिटी की आवश्यकता नहीं होती | 
  • मल्टीटास्किंग नहीं करता | 
  • इनपुट/आउटपुट के लिए शेड्यलिंग नहीं होती | 
  • इसको मुख्यतः घरों में इस्तेमाल होने वाले कंप्यूटर के लिए डिज़ाइन किया गया है | 

Advantages of Single User Operating System 

सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम उपयोग करने के निम्नलिखित फायदे है -:

  • चूँकि सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम एक समय में केवल एक ही यूजर को सपोर्ट करता है जिससे यूजर बिना किसी इंटरप्शन के कार्य कर सकता है | 
  • सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम में एक ही यूजर कार्य करता है जिससे यह ज्यादा काम्प्लेक्स नहीं होता | 
  • Maintenance आसान होता है 
  • इसमें मल्टीपल रिसोर्स यूज़ नहीं होते | 
  • डिबगिंग आसानी से किया जा सकता है  
  • केवल एक ही यूजर द्वारा हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का Request भेजा जाता है जिससे हार्डवेयर और सॉफ्टवेयरको किसी भी प्रकार का डैमेज नहीं होता | 
  • सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम में एक सिंगल यूजर इंटरफ़ेस होता है जिससे यूजर मल्टीपल टास्क पर फोकस करने के बजाय एक समय में केवल एक ही टास्क पर फोकस कर सकता है | 

Disadvantages of Single User Operating System 

सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ सीमाएं भी है जो की निम्नलिखित है -:

  • सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम एक समय कई सारे यूजर हो हैंडल नहीं कर सकता | 
  • यह स्लो होता है | 
  • Responce टाइम काफी ज्यादा होता है | 
  • यह सिस्टम CPU, मेमोरी और डिस्क I/O को हाई लेवल पर optmize करने में सक्षम नहीं है।
  • एक टास्क के कम्पलीट होने तक CPU के लिए wait करना पड़ता है | 

Examples of Single User Operating System

  • Windows
  • Linux
  • Mac O/S
  • MS-DOS
  • Palm OS

Conclusion

दोस्तों आशा करता हु कि आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? (What is Single User Operating System in Hindi) और सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम के क्या लाभ और क्या नुकशान है? (Advantages and Disadvantages of Single User Operating System in Hindi ) से संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? (What is Single User Operating System in Hindi) और सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते है? के बारे में काफी जानकरी हुई होगी |

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो इस पोस्ट को अपने अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी ये जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आपको अभी भी Single User Operating System in Hindi से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप जरूर बताये मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

एसी ही नया टेक्नोलॉजी ,Computer Science, Operating System से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging

Leave a Comment