DHTML क्या है? – What is DHTML In Hindi

हेल्लो फ्रेंड्स अगर आप Web development से जुड़े है, तो आपने कभी न कभी DHTML के बारे में तो सुना होगा और कुछ हद तक इससे परिचित भी होंगे मगर आज के आर्टिकल में हम DHTML के बारे में Detail से जानने वाले है | 

आज हम विस्तार से जानेंगे कि DHTML क्या है? (What is DHTML in Hindi) इसका उपयोग क्या है? (Uses of DHTML in Hindi) और HTML और DHTML में क्या अंतर है? (Difference Between HTML And DHTML In Hindi) से

तो आइये बिना समय गवाए जानते है कि DHTML Kya Hai?

DHTML क्या है?  - What is DHTML In Hindi

DHTML क्या है? (What is DHTML In Hindi)

DHTML का फुल फॉर्म है – “Dynamic Hypertext Markup Language” मतलब “Dynamic HTML” |  

DHTML कोई लैंग्वेज नहीं है यह एक टर्म है जो dynamic और interactive web pages बनाने वाली टेक्नोलॉजी को describe करता है | 

W3C (World Wide Web Consortium) के अनुसार -: “Dynamic HTML, एक शब्द है जिसका उपयोग कुछ विक्रेताओं द्वारा HTML, स्टाइल शीट और स्क्रिप्ट के संयोजन का वर्णन करने के लिए किया जाता है | यह documents को एनिमेटेड करने की अनुमति प्रदान करता है।”

यह HTML से बिल्कुल अलग है। Html जिसका उपयोग वेबपेज के कंटेंट को Structure प्रोवाइड करने में होता है | वही DHTML की बात किया जाये तो यह HTML, CSS, Javascript और DOM (Document Object Model, जो किसी document के अलग-अलग elements तक पहुँचने के लिए उपयोग किया जाता है) का combination है।

यह HTML के साथ दूसरे properties (HTML, CSS, Javascript और DOM) का भी यूज़ करता है, जिससे वेबपेज को रियल टाइम responsive, animated, और interactive बनाया जा सके | 

DHTML ऐसे फंक्शन प्रोवाइड करता है जिसके थ्रू हम अपने वेबसाइट में लाइव चाट, फीडबैक फॉर्म, और navigation मेनू बार आसानी से क्रिएट कर सकते है | 

DHTML, डायनामिक ऑब्जेक्ट मॉडल का उपयोग सेटिंग्स, properties और methods में परिवर्तन करने के लिए करता है।

DHTML का उपयोग इंटरैक्टिव और एनिमेटेड वेब पेज बनाने के लिए किया जाता है जो real-time में उत्पन्न होते हैं, जिन्हें डायनेमिक वेब पेज के रूप में भी जाना जाता है | 

DHTML एप्लिकेशन को Microsoft द्वारा 1997 में IE (Internet Explorer) के चौथे संस्करण के साथ रिलीज किया गया था।

वैसे अभी आप जिस वेबसाइट में ये आर्टिकल पढ़ रहे है वो, DHTM का एक बेहतरीन उदाहरण है क्योकि ये वेबसाइट भी DHTML में शामिल कॉम्पोनेन्ट से मिलकर बना है | 

DHTML के घटक (Components of Dynamic HTML)

DHTML में मुख्यतः 4 कंपोनेंट्स होते है जिनके बेस पर ही DHTML कार्य करता है | वैसे तो इसके कम्पोनेंट्स अपने आप में independent हो सकते है लेकिन ऐसा जरूरी नहीं है | 

  1. HTML 
  2. CSS
  3. JavaScript
  4. DOM.

#1. HTML

HTML का फुल फॉर्म – “Hypertext Markup Language” है। यह क्लाइंट-साइड मार्कअप लैंग्वेज है। जिसका उपयोग वेबपेज के कंटेंट को Structure प्रोवाइड करने में होता है | 

यह DHTML का एक मुख्य घटक है।

#2. CSS

CSS का का फुल फॉर्म “Cascading Style Sheet” है | यह डेवलपर्स को वेब पेजों पर HTML तत्वों की style और लेआउट को नियंत्रित करने की अनुमति प्रदान करता  है | 

#3. JavaScript

जावास्क्रिप्ट एक क्लाइंट-साइड स्क्रिप्टिंग लैंग्वेज है जिसका उपयोग HTML elements को एक्सेस , कण्ट्रोल और manipulate करने के लिए किया जाता है आज कल अधिकांश ब्राउज़र जावास्क्रिप्ट सपोर्ट करते  है | 

जावास्क्रिप्ट स्टेटमेंट वे कमांड हैं जो ब्राउज़र को action परफॉर्म करने के लिए कहते हैं।

#4. DOM 

इसे Document Object Model के नाम से जाना जाता है। यह static contents में manipulate करने का एक तरीका है। मगर अधिकांश ब्राउज़र DOM को सपोर्ट नहीं करते |

DHTML का उपयोग क्यों करें? (Why Use DHTML In Hindi)

  • DHTML हमे website के टेक्स्ट से लेकर website के object तक के प्रॉपर्टी को हैंडल में सक्षम बनाता है | 
  • DHTML के जरिये हम अपने वेबसाइट को बड़ी आसानी से अलग अलग डिज़ाइन दे सकते है | 
  • DHTML, webpages को user friendly बनाता है जिससे यूजर को इंटरैक्ट करना आसान होता है | ऐसे और भी बहुत से कारण है जो आगे आपको इसके फीचर देखने के बाद खुद ही समझ आ जायेगा | 

DHTML की विशेषताएं (Features of DHTML In Hindi)

अगर हम DHTML के फीचर को समझे तो हम पाएंगे कि इसके फीचर्स ही इसके importances को संक्षिप्त में बता देते है | 

DHTML के फीचर निम्नलिखित है -:

  • DHTML के साथ dynamic वेबपेज बनाना आसान है | 
  • DHTML में बहुत सारे फीचर है (जैसे :- CSS, Javascript) जिसमें यूजर द्वारा webpages के फॉर्मेट को बदलना आसान होता है | 
  • DHTML के जरिये वेबसाइट में हो रहे बदलाव को सही रिस्पॉन्स करना आसान होता है | 
  • कीबोर्ड और माउस के inputs को बड़ी आसानी से पता लगा कर उसके Corresponding रिस्पॉन्स करना आसान होता है |
  • DHTML का उपयोग करके users आसानी से अपनी वेब साइटों या वेब पेजों के लिए Dynamic चीजे (डिजिटल क्लॉक, नोटिस बार, प्रोम्पट ) बना सकते हैं।
  • DHTML की मदद से users आसानी से HTML टैग और उनके प्रॉपर्टी को बदल सकते हैं।
  • DHTML वेब पेज की कार्यक्षमता को बढ़ाता है ।

DHTML का उपयोग (Uses of DHTML In Hindi)

  • इसका उपयोग एनिमेटेड और इंटरैक्टिव वेब पेजों को डिजाइन करने के लिए किया जाता है जो realtime में developed होते हैं।
  • DHTML users को उनके documents में टेक्स्ट और images को एनिमेट करने में  मदद करता है।
  • यह डेवेलपर्स को अपने वेब पेजो पर effect जोड़ने की अनुमति देता है।
  • यह वेब डेवेलपर्स को ड्रॉप-डाउन मेनू या रोलओवर बटन शामिल करने की भी अनुमति देता है।
  • DHTML शब्द का उपयोग विभिन्न ब्राउज़र-आधारित एक्शन गेम बनाने के लिए भी किया जाता है।
  • इसका उपयोग विभिन्न वेबसाइटों पर tickers जोड़ने के लिए भी किया जाता है, जिससे उनके content को automatically refresh करने की जरूरत होती है।

HTML और DHTML के बीच अंतर (Difference Between HTML And DHTML In Hindi)

HTML DHTML
HTML सिर्फ एक markup language है।DHTML कोई लैंग्वेज नहीं है बल्कि यह, वेब डेवलपमेंट की तकनीकों का एक समूह है।
ये वेबपेज बनाने में और उसके डेवलपमेंट में काम आता है | इसका यूज़ एनिमेटेड और इंटरैक्टिव वेब पेज बनाने लिए किया जाता है।
मार्कअप लैंग्वेज से हम static पेज ही बना सकते है  DHTML से हम dynamic वेबपेज बनाते है 
इसमें कोई सर्वर साइड स्क्रिप्टिंग कोडिंग का  इस्तेमाल नहीं होता | इसमें सर्वर-साइड स्क्रिप्टिंग का कोड इस्तेमाल हो सकता है।
html फाइल सिस्टम में.htm या .html एक्सटेंशन के साथ save होता है |DHTML की फ़ाइलें एक सिस्टम में .dhtm extension के साथ सेव या स्टोर की जाती हैं।
एक सिंपल वेबपेज जो बिना किसी स्क्रिप्टिंग और स्टाइल (CSS) का  बना हुआ होता है उसे HTML पेज बोल सकते है | एक वेबपेज, जिसे डेवेलपर्स द्वारा HTML, CSS, DOM और JavaScript का उपयोग करके बनाया जाता है, DHTML पेज कहलाता है।
HTML में डेटाबेस कनेक्शन की कोई जरूरत नहीं होती | DHTML को डेटाबेस कनेक्टिविटी की आवश्यकता हो सकती है क्योंकि यह users के साथ इंटरैक्ट करता है, लेकिन डेटाबेस कनेक्टिविटी होना जरूरी नहीं है  | 
html vs dhtml in hindi

DHTML के लाभ (Advantages of DHTML In Hindi)

  1. Flash or Shockwave, जैसे अन्य इंटरेक्शनल मीडिया की तुलना में फाइलों का आकार कॉम्पैक्ट होता है और यह तेजी से डाउनलोड होता है।
  1. यह Microsoft और Netscape जैसे बड़े ब्राउज़र निर्माताओं द्वारा supported है।
  1. यह अत्यधिक flexible और बदलाव करने में आसान है ।
  1. DHTML का उपयोग करने वाले Viewer को वेबपेज के माध्यम से ब्राउज़ करने के लिए किसी अतिरिक्त प्लग-इन की या विशेष सॉफ़्टवेयर की आवश्यकता नहीं होती | 
  1. सर्वर को कम संख्या में requests भेजकर उपयोगकर्ता का समय बचाया जाता है। 
  1. चूंकि पेज लोड होने के बाद भी elements को modify करना और replace करना संभव है, इसलिए styles को बदलने के लिए अलग पेज बनाने की आवश्यकता नहीं है जो पेज बनाने में समय बचाता है और सर्वर को भेजे जाने वाले requests की संख्या को भी कम करता है।
  1. इसमें स्थिर HTML की तुलना में अधिक एडवांस functionality है। 
  1. यह एक ही समय में वेब पेज पर अधिक सामग्री रखने में सक्षम है।

DHTML के नुकसान (Disadvantages of DHTML In Hindi)

  1. यह सभी browsers द्वारा supported नहीं है। यह केवल हाल के ब्राउज़र जैसे नेटस्केप 6, IE 5.5, और ओपेरा 5 जैसे ब्राउज़र द्वारा supported है।
  1. DHTML सीखने के लिए बहुत सी languages (जैसे HTML, CSS, JS, आदि) की आवश्यकता होती है जो DHTML शुरू करने से पहले डिज़ाइनर को पता होना चाहिए | यह अपने आप में एक और लंबा समय लेने वाला है।
  1. विभिन्न ब्राउज़रों का Implementation अलग होता है। तो अगर यह एक ब्राउज़र में काम करता है, तो यह जरूरी नहीं कि दूसरे ब्राउज़र में उसी तरह काम करे।
  1. काफी ज्यादा functionality होने के बाद भी DHTML को कुछ tools और utilities की आवश्यकता होती है जो थोड़ी महंगी होती हैं। उदाहरण के लिए, DHTML टेक्स्ट एडिटर, ड्रीमविवर। 

Conclusion

दोस्तों आशा करता हु कि आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको DHTML क्या है? (What is DHTML in Hindi), इसका उपयोग क्या है? (Uses of DHTML in Hindi) और HTML और DHTML के बीच क्या अंतर है? (Difference Between HTML And DHTML In Hindi) से संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी और आपको और कही इसके बारे में सर्च करना नहीं पड़ेगा |

अगर आप सी लैंग्वेज का Complete Tutorial चाहते है तो मेरे इस पोस्ट C Language Tutorial In Hindi को देखे यहाँ आपको C Programming Language के सभी टॉपिक्स step by step मिल जाएगी |

दोस्तों आशा करता हु कि आपको ये पोस्ट पसंद आई होगी और आपको DHTML Kya Hai के बारे में काफी जानकरी हुई होगी |

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो इस पोस्ट को अपने अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी ये जानकारी प्राप्त हो सके |

यदि आपको अभी भी DHTML क्या है? (What is DHTML in Hindi) और HTML और DHTML के बीच अंतर (Difference Between HTML And DHTML In Hindi) से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप निचे कमेंट में जरूर बताये |

मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है हमारे contact us पेज से |

ऐसी ही नया टेक्नोलॉजी ,Programming Language, Coding , C Language, C++, Python Course , Java Tutorial से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Jeetu Sahu is A Web Developer | Computer Engineer | Passionate about Coding, Competitive Programming and Blogging