|

स्‍यूडो कोड क्या है? – What is Pseudo Code In Hindi

कंप्युटर में किसी प्रोग्राम को बनाने से पहले, उस प्रोग्राम को प्लान करने की सलाह दी जाती है ताकि प्रोग्राम बनाते समय किसी प्रकार का कंफ्यूजन ना हो।

प्रोग्राम को प्लान करने के लिए बहुत सी तकनीकों का प्रयोग किया जाता है, जैसे flowchart, decision table इत्यादि।

Pseudo code भी एक ऐसी ही तकनीक है, जिसका प्रयोग प्रोग्राम के लॉजिक को प्लान करने के लिए किया जाता है, Pseudo code ऐसे इन्स्ट्रक्शन होते है, जिनकी मदद से डेवलपर किसी प्रोग्राम के लॉजिक को लिखने से पहले ही उसके लॉजिक को प्लान कर सकता है, जिससे उसे प्रोग्राम लिखते समय आसानी हो सके। “

तो दोस्तों यह Pseudo code की एक बहुत ही साधारण सी परिभाषा थी, लेकिन यदि आप Pseudo code क्या है? (What is Pseudo Code In Hindi) Pseudo code कैसे लिखे और Pseudo code लिखने के क्या फायदे व क्या नुकसान है? आदि विस्तार से जानना चाहते है तो आप इस आर्टिकल को आगे पढ़ते रहें क्योंकि आज हम इस आर्टिकल में आपके Pseudo code से संबंधित सभी सवालों का जवाब देने वाले है।

तो आइये अब बिना समय गवाए सबसे पहले  जानते है कि Pseudo Code Kya Hai?

स्‍यूडो कोड क्या है? (What is Pseudo Code In Hindi)

स्‍यूडो कोड क्या है? (What is Pseudo Code In Hindi)

Pseudo Code एक text based प्रोग्राम डिजाइन लैंग्वेज है, यह एक इस प्रकार की भाषा है जो की डेवलपर को कोड लिखने से पहले ही, उस कोड के algorithms को समझने में मदद करती है। 

Pseudo code एक अनौपचारिक भाषा है, जिसकी मदद से हम किसी भी कोड को लिखने से पहले, उसके डिस्क्रिप्शन को अपनी भाषा जैसे इंग्लिश, हिन्दी या फिर किसी ओर भाषा में लिख सकते है। 

हमें pseudo code लिखते समय अधिक नियमों का पालन नहीं करना होता, इसलिए हम इसे अपने अनुसार किसी भी भाषा में लिख सकते है,  लेकिन फिर भी pseudo code को इंग्लिश भाषा में ही लिखना चाहिए ताकि आपका लिखा pseudo code दिखने में प्रोफेशनल लगे और अधिक से अधिक लोग इसे समझ सके।

Pseudo Code Syntax and Rules -:

हर एक कोड को लिखने का एक structure होता है, जिसमें यह पहले से ही तय होता है कि symbol, brackets, data types, variables इत्यादि एलिमेट्स को कैसे लिखना है, कोड लिखने के इस structure को syntax कहा जाता है।

लगभग हर एक कोडिंग लैंग्वेज में हर एक कोड ब्लॉक का कोई syntax होता है, लेकिन pseudo code में कोई तय syntax नही होता

Pseudo code को इस तरीके से लिखना होता है की वह किसी ऐसे व्यक्ति को भी समझ आ सके, जिसके पास कोडिंग की अधिक जानकारी ना हो। 

Pseudo code का कोई syntax तो नहीं होता, लेकिन इसको लिखने के कुछ नियम होते है जिन नियमों का पालन हमें स्‍यूडो कोड लिखते समय करना चाहिए, जिससे हम एक अच्छा pseudo code को लिख सकें और जिसे कोई भी व्यक्ति आसानी से समझ सके। 

Pseudo code लिखते समय हम जिन नियमों का पालन करना चाहिए वह कुछ इस प्रकार है -:

  • Pseudo code लिखते समय, हमें एक लाइन में केवल एक ही स्टेटमेंट को लिखना चाहिए, एक से अधिक स्टेटमेंट्स लिखने पर हमारा pseudo code बहुत भद्दा लगता है और उसकी readability पर बहुत फर्क पड़ता है।
  • स्टेटमेंट के शुरुआती words यानि की मुख्य ऑपरेशन्स को capital letters यानी की बड़े अक्षरों में लिखना चाहिए, ताकि कोडर मुख्य ऑपरेशन्स जैसे की IF, ELSE इत्यादि को आसानी से समझ सके। 
  • Pseudo code लिखते समय स्टेप्स को बहुत अच्छे से लिखा जाना चाहिए, ताकि अच्छे से समझ आ सके कि किस स्टेप के बाद कौनसा स्टेप होगा।
  • स्टेटमेंट्स में प्रोग्रामिंग कोड्स को अधिक नही लिखना चाहिए, इसमें साधारण भाषा का प्रयोग अधिक करना चाहिए, कोड्स को अधिक लिखने से pseudo code की readability कम हो जाती है। 
  • यदि आपके pseudo code में एक से अधिक सेक्शन्स है तो आपको उन सेक्शन्स  को खत्म करते समय end keyword का प्रयोग करना चाहिए, इससे कोड करते समय कोडर को स्टेप को close कहां करना है यह जानने में सहायता मिलती है।

तो दोस्तों यह थी pseudo code के कुछ मुख्य नियम, इसके अलावा भी और नियम है, जिसकी मदद से आप अपने स्‍यूडो कोड को ओर अच्छे से लिख सकते हो, लेकिन यदि आप बस इन नियमों का भी पालन कर लेते हो तो भी आप एक अच्छा pseudo code लिख सकते हो। 

आगे बढ़ने से पहले हम आपको एक ओर बात बता दे कि यह जरूरी नहीं है कि आप को pseudo code लिखते समय इन नियमों का पालन करना ही होगा, आप अपने अनुसार स्‍यूडो कोड को लिख सकते है, यह नियम तो आपको एक अच्छा pseudo code लिखने में मदद करते है।

स्‍यूडो कोड का उदाहरण (Example of Pseudo Code)

Pseudo code को अच्छे से समझने के लिए हम एक example को देख लेते है, नीचे जावा का एक बेसिक सा प्रोग्राम  बना है जिसमेmain() function का कोड है, जिसमें IF, ELSE statements का प्रयोग किया गया है -:

Code -:

int marks = 30;
 if (marks>32){
 System.out.println("Congrats, You Are Passed");
}
else{
System.out.println("Sorry, You Are Failed");
}

यह एक बहुत ही बेसिक जावा प्रोग्राम है, इस प्रोग्राम का काम यह है कि, यह पता लगाए कि किसी स्टूडेंट को जितने मार्क्स मिले है वह उतने मार्क्स में पास हुआ है या फिर फेल। 

वैसे हम इस जावा प्रोग्राम में scanner का प्रयोग करके marks के लिए यूजर से भी इनपुट ले सकते है मगर इसमें हमनें कोड के अंदर पहले ही 30 मार्क्स को assign कर दिया है ताकि जिसको कोडिंग की कम जानकारी है, वह कन्फ्यूज़ ना हो, 

तो अब आपने ऊपर कोड को देख लिया है, आइये अब हम जानते है कि इसका स्‍यूडो कोड कैसे लिख सकते है?

तो इस प्रोग्राम के pseudo code को हम कुछ इस प्रकार से लिख सकते है -:

// Program for Finding Whether Student is Pass or Failed:
IF marks is greater than 32
PRINT “Congrats, You Are Passed”
ELSE
PRINT “Sorry, You Are Failed”
IF END 

इस बेसिक से example से शायद अब आपको चीज़े और अच्छे से समझ आने लगी होगी। इससे आप को एक बेसिक idea हो गया होगा कि pseudo code को लिखते कैसे है लेकिन अब हम यहाँ आपको बताएंगे कि जब आप pseudo कोड को लिखने वाले होंगे तो आपको कैसे उसे शुरू से अंत तक लिखना होगा और आपको क्या सोच लेकर चलना होगा ।

How To Write Pseudo Code

स्‍यूडो कोड को कैसे लिखते है? (How To Write Pseudo Code)

Pseudo code को लिखते समय हमें शुरू से अंत तक कुछ इस तरह से आगे बढ़ना होता है -:

  • Pseudo code को लिखते समय सबसे पहले ऊपर ही आप यह लिख दे कि जिस कोड के लिए आप pseudo code लिख रहे है, वह कोड क्या काम करेगा। 
  • अब आपको यह पता है कि आपको किस काम के लिए कोड लिखना है, तो अब आपको उस काम को पूरा करने के लिए कोड में क्या-क्या स्टेप्स add करने पड़ेंगे, उन सभी स्टेप्स को समझना होगा। 
  • आप उन सभी स्टेप्स को उनके कार्य के अनुसार एक sequence में arrange कर ले। 
  • उस कोड में जिन जिन भी स्टेटमेंट्स का प्रयोग होने वाला होगा, आप को उन सभी स्टेटमेंट्स को भी अच्छे से प्लान कर लेना होगा कि किस स्टेटमेंट की कहाँ और क्यूँ जरूरत पड़ेगी। 
  • इतना कार्य करने के बाद आप ने इन सभी जानकारियों को ऊपर बताए गए नियमों का पालन करते हुए, अच्छे ढंग से लिख देना है। 

जैसा की हम पहले भी बता चुके है कि pseudo code को लिखने के लिए आपको नियमों को अधिक गंभीरता से लेने की जरूरत नहीं होती, चूंकि इसका कोई तय syntax नहीं होता तो आप इसे अपने अनुसार लिख सकते है, लेकिन आपको यह ध्यान रखना होता है कि आपका pseudo code ऐसा हो जो की हर किसी को आसानी से समझ आ सके।

Pseudo Code के फायदे क्या है? (Advantages of Pseudo Code In Hindi)

हम ऊपर pseudo code के बारे में इतना पढ़ चुके है तो अब आपके मन में एक सवाल आ सकता है, कि pseudo code प्रयोग करने से हमें क्या फायदे मिलता है? या फिर हम इसे प्रयोग ही क्यूँ करते है? तो चलिए अब इसके कुछ फ़ायदों को भी जान लेते है -:

  • Pseudo code लिखने से प्रोग्रामर को प्रोग्राम लिखने से पहले ही प्रोग्राम का एक अच्छा overview मिल जाता है, जिससे उसे प्रोग्राम बनाने में आसानी होती है।
  • एक बार जब हम pseudo code को लिख लेते है तो उसके बाद हमें flowchart, decision table आदि बनाने में आसानी रहती है।
  • Pseudo code में हर एक स्टेप को अच्छे से लिखा जाता है तो इससे  प्रोग्राम बनाते समय error आने के चांसेस कम रहते है।
  • यदि प्रोग्राम में कोई error आ जाए तो हम pseudo code की मदद से यह देख सकते है कि प्रोग्राम का कौन सा स्टेप अच्छे से काम नही कर रहा, इससे उस error को ठीक करने में मदद मिलती है।
  • Pseudo code प्रोग्रामिंग लैंग्वेजस पर निर्भर नही करता जिसकी वजह से pseudo code किसी भी लैंग्वेज में प्रोग्रामिंग करने वाले प्रोग्रामर को आसानी से समझ आ जाती है।
  • Pseudo code को बनाना आसान होता है, जिसकी वजह से कोई नया प्रोग्रामर जिस ने अभी अभी प्रोग्रामिंग शुरू की है, वह भी इसे बना सकता है।

तो यह थे pseudo code के कुछ मुख्य फायदे, तो आइये अब हम pseudo code के नुकसानों को भी देख लेते है |

Pseudo Code के नुक्सान क्या है? (Disadvantages of Pseudo Code In Hindi)

स्‍यूडो कोड के निम्नलिखित नुकसान है -:

  • Pseudo code का कोई तय syntax नही होता तो कईं बार pseudo code लिखते समय व्यक्ति इसको इस तरह से लिख देता है कि वह बाकी लोगो को समझ नही आता।
  • Pseudo code एक text based प्रोग्राम डिजाइन लैंग्वेज है तो इसमें हमें प्रोग्राम की कोई visual representation देखने को नहीं मिलती।
  • हम pseudo code को compile नही कर सकते, यदि हम इसे compile करेंगे तो हमें प्रोग्राम में error देखने को मिलते है।
  • Pseudo code की मदद से हम प्रोग्राम के flow को नही बता सकते।
  • यदि आपका प्रोग्राम कॉम्प्लिकेटेड है तो उसका pseudo code बनाने में बहुत वक्त लग सकता है।

Read More -:

निष्कर्ष

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हमनें Pseudo Code के बारे में बात की और जाना कि Pseudo code क्या है? (What is Pseudo Code In Hindi) Pseudo code कैसे लिखे (How to write pseudo code in Hindi)और Pseudo code के क्या फायदे व क्या नुकसान है? (Advantages and Disadvantages of Pseudo Code In Hindi)

दोस्तों आशा करता हु कि आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको स्‍यूडो कोड क्या है? (What is Pseudo Code In Hindi) से संबंधित सभी जानकारी मिल गई होगी |

अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया है तो इस पोस्ट को अपने अपने दोस्तों को शेयर करना न भूलिएगा ताकि उनको भी Pseudo code Kya Hai के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके |

अगर आपको अभी भी स्‍यूडो कोड (Pseudo code In Hindi) से संबंधित कोई भी प्रश्न या Doubt है तो आप कमेंट्स के जरिए हमसे पुछ सकते है। मैं आपके सभी सवालों का जवाब दूँगा और ज्यादा जानकारी के लिए आप हमसे संपर्क कर सकते है |

ऐसे ही नया टेक्नोलॉजी ,Computer Science से रिलेटेड जानकारियाँ पाने के लिए हमारे इस वेबसाइट को सब्सक्राइब कर दीजिए | जिससे हमारी आने वाली नई पोस्ट की सूचनाएं जल्दी प्राप्त होगी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *